VIDEO: यहां दशहरा के चार दिन बाद किया जाता है रावण के पुतले का दहन, ये है बड़ी वजह

VIDEO: यहां दशहरा के चार दिन बाद किया जाता है रावण के पुतले का दहन, ये है बड़ी वजह

Highlights

. देशभर में जलाया जा चुका है रावण
. मंदोदरी की वजह से कल तक जिंदा हैं रावण
. मंदोदरी ले जा रही थी अपने मायके

बुलंदशहर. देशभर में दशहरा (dussehra 2019) के दिन रावण के पुतले का दहन किया जा चुका है। यूपी के गौतमबुद्ध नगर जनपद का बिसरख गांव में न रामलीला का मंचन होता है और न ही रावण के पुतले का दहन। गौतमबुद्ध नगर से सटे सिकंदराबाद कस्बे में रावण का पुतला चौदस के दिन दहन किया जाता है।

karwa chauth 2019ः करवा चौथ के दिन सुबह—सुबह पति के हाथ से जरूर पीएं नारियल का पानी, होगा यह फायदा

पुराणों के अनुसार, विजयदशवी के दिन राम ने रावण का वध किया था। बताया जाता है कि रावण के मौत के पश्चात पत्नी मंदोदरी उसके शव को लेकर मेरठ जा रही थी। मेरठ में मंदोदरी का मायका था। मंदोदरी के पिता मृत व्यक्ति को जीवत करने की दवा जानते थे। लेकिन मंदोदरी लंका से लौटते वक्त मेरठ का रास्ता भटक गई और सिकंदराबाद के किशन तालाब पहुंच गई। यहां चौदस के दिन रावण के पुतले का दहन किया गया था।

जब उसे पूरी तरह यकीन हो गया था कि रावण का वध हो चुका है। उसके बाद रावण का दहन किया गया। यहां आज भी एक शिवमंदिर है। मंदिर के पुजारी धनश्याम झा ने बताया कि रास्ता भटकने के बाद मंदोदरी यहां पहुंची थी। मंदोदरी ने 4 दिन तक घोर तपस्या की थी। उसके बाद रावण जिंदा नहीं हुआ तो विजयदशवी के चार दिन बाद मंदोदरी नेे रामायण का अंतिम संस्कार कर दिया। तभी से दशहरेे के 4 दिन बाद रावण का दहन होता है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned