2022 के चुनाव में आसान नहीं होगी मायावती की राह, UP की सभी सीटों पर प्रत्याशी उतारेंगे चंद्रशेखर

Highlights

- आसपा ने विधानसभा चुनाव के लिए तैयार किया ब्ल्यू प्रिंट

- एक साल पहले ही 2021 में 50 प्रत्याशियों की सूची जारी करेंगे चंद्रशेखर

- बुलंदशहर सीट पर उपचुनाव में मिले जनाधार से गदगद हैं पार्टी प्रमुख

By: lokesh verma

Published: 13 Nov 2020, 03:22 PM IST

बुलंदशहर. यूपी उपचुनाव में पार्टी प्रत्याशी को मिले जनाधार से आजाद समाज पार्टी के प्रमुख चंद्रशेखर गदगद हैं। 2022 के विधानसभा चुनावों में और भी ताकत के साथ सियासी मैदान में होंगे। इसके लिए चंद्रशेखन ने जीत ब्ल्यू प्रिंट भी तैयार कर लिया है। उन्होंने तय किया है कि 2022 के चुनावों के लिए वह जनवरी 2021 में ही पार्टी प्रत्याशियों की पहली दो लिस्ट जारी कर देंगे। बताया जा रहा है कि आसपा के पहली सूचनी में 50 प्रत्याशियाें के नामों की घोषणा की जाएगी।

यह भी पढ़ें- अजय लल्लू बोले- योगी सरकार का 'मिशन रोजगार' झूठ का पुलिंदा, 50 लाख रोजगार का वादा सिर्फ हवा-हवाई

उल्लेखनीय है कि सहारनपुर हिंसा के बाद भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर का नाम सुर्खियों में आया था। इसके बाद से वह दलितों की आवाज बनकर लगातार चर्चा में बने हुए हैं। इसी साल चंद्रशेखर ने नोएडा में अपनी राजनीतिक पार्टी आजाद समाज पार्टी की घोषणा की थी, जिसमें बसपा के कई बड़े नेता भी जुड़े। बुलंदशहर विधानसभा उपचुनाव में पहली बार उन्होंने अपनी पार्टी का प्रत्याशी उतारा, जो चुनाव तो नहीं जीत सका, हालांकि कई बड़े दलों को पीछे छोड़ते हुए तीसरे स्थान पर रहा। अपने प्रत्याशी के तीसरे स्थान पर आने से चंद्रशेखर भी गदगद हैं और 2022 के विधानसभा चुनाव में पूरी ताकत के साथ उतरने जा रहे हैं। माना जा रहा है कि आगामी चुनाव में आसपा के आने से सबसे बड़ा नुकसान मायावती की बसपा को ही होगा।

एक साल पास पहले ही घोषित करेंगे प्रत्याशी

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद ने बताया कि अभी यह पार्टी की सियासी पारी की शुरुआत हैं। उनका मुख्य उद्देश्य अन्य पार्टियों की चालाकियों को समझकर बेनकाब करना और सियासी बदलाव लाना है। लोगों के बीच जनाधार तैयार करने के लिए वह चुनाव से एक साल पहले जनवरी 2021 में 50 प्रत्याशियों की पहली सूची जारी करेंगे, ताकि वह एक साल तक जनता के बीच रहकर उनके दुखदर्द में शामिल हो सकें। जनता के हमदर्द बनकर उनका विश्वास जीतें। उसके बाद पूरे उत्तर प्रदेश में उम्मीदवारों के नाम की घोषणा की जाएगी।

सबसे पहले मजबूत सीटों पर उतारंगे प्रत्याशी

उन्होंने बताया कि प्रत्याशियों के नाम मंथन करने के बाद ही घोषित किए जाएंगे। सभी सीटों को लेकर उन्होंने तीन कैटेगिरी बनाई हैं। पहली सौ प्रतिशत जिताऊ, दूसरी अन्य पार्टियों को टक्कर देने वाली सीट (हार-जीत दोनों संभव) तीसरी अन्य पार्टियों की मजबूत सीट। इसलिए आसपा की पहली सूची में केवल उन प्रत्याशियों के नाम घोषित किए जाएंगे जहां अपनी पार्टी मजबूत स्थिति में है। इसके लिए उनके पास कार्यकर्ताओं की पूरी फौज और बहुजन समाज का साथ है।

यह भी पढ़ें- कृष्ण जन्मभूमि विवाद में नया ट्विस्ट, नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रपौत्री भी बनेंगी पक्षकार

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned