निकाय चुनाव में बांटने के लाया जा रहा विदेशी शराब का जखीरा पकड़ा, एक गिरफ्तार, दो फरार

कबाड़ के बीच छिपाकर रखी गई थी लाखों रुपये की शराब

By: lokesh verma

Published: 11 Sep 2017, 01:47 PM IST

बुलंदशहर. हरियाणा से तस्करी कर लाई जा रही 243 पेटी विदेशी शराब के साथ पुलिस ने एक तस्कर को गिरफ्तार किया है। पुलिस की मानें तो यह शराब आगामी निकाय चुनाव में बांटने के लिए लाई जा रही थी। पकड़ी गई शराब की कीमत करीब 20 लाख रुपए बताई जा रही है। पुलिस ने बताया कि दो तस्कर मौके से फरार होने में सफल हो गए हैं, जिनकी तलाश की जा रही है।

 

यह भी पढ़ें- सहारनपुर शहर के बीचोंबीच एनकाउंटर में 12 हजार का इनामी बदमाश हुआ ढेर

यह भी पढ़ें- अमिताभ बच्चन को भारत रत्न देने के लिए सबसे बड़े फैन ने पीएम मोदी से की ये अपील

यह भी पढ़ें- गर्लफ्रेंड के चक्‍कर में उद्यमी के भांजे ने रचा अपने अपहरण का ड्रामा

 

बता दें कि गुलावठी पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर कोटा औलेढा सम्पर्क मार्ग पर घेराबंदी कर एक कैंटर को जैसे ही रोककर चेक किया तो कैंटर से दो लोग जंगलों की तरफ भाग खड़े हुए। पुलिस ने उनका पीछा किया, लेकिन तस्कर पुलिस को चकमा देकर मौके से फरार हो गए। हालांकि पुलिस ने एक तस्कर प्रमोद को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने बताया कि कंटेनर को चेक किया तो कंटेनर में कबाड़ भरा हुआ था। चेकिंग के दौरान गाड़ी में केबिन बनाकर पिछले हिस्से में लकड़ी का पुराना फर्नीचर भर रखा था और फर्नीचर के पीछे शराब की पेटी छुपा रखी थीं। पुलिस के अनुसार यह शराब हरियाणा से तस्करी करके लाई गई थी। पकड़ी गई 243 पेटी अवैध अंग्रेजी शराब की कीमत करीब 20 लाख रूपये बताई जा रही है।

 

पकड़ गए तस्कर ने पुलिस पूछताछ में बताया कि शराब स्थानीय निकाय चुनावों में बांटने के लिए लाई जा रही थी। पुलिस ने बताया कि योगेश (प्रधानपति) निवासी ग्राम हर्चना के एक मकान में स्टॉक की जानी थी। शराब को आगामी नगर पालिका चुनाव में प्रत्याशियों की मांग पर वितरित किया जाना था। एसपी सिटी प्रवीन रंजन ने बताया कि प्रमोद व योगेश शराब माफिया हैं, जो पिछले काफी समय से विभिन्न प्रान्तों से शराब की तस्करी कर आसपास के क्षेत्रों में सप्लाई करते हैं और पहले भी जेल जा चुके हैं। वहीं प्रमोद पर करीब 17 मुकदमे दर्ज हैं।

lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned