शहीद की पत्नी CM Yogi से खफा, कहा- नहीं आए मिलने तो बैठी रहूंगी भूख हड़ताल पर

शहीद की पत्नी का कहना देश की सुरक्षा के लिए शरहद पर जवान चाहिए तो परिवार को सीएनजी पंप चाहिए

By: pallavi kumari

Updated: 12 Nov 2017, 07:08 PM IST

बुलंदशहर. जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सेना के जवानों आतंकवादियों के बीच हुई मुठभेड में बुलंदशहर का ब्रह्मपाल सिहं भाटी शहीद हो गए थे। पुलवामा में हुई मुठभेड़ में पाकिस्तान के खूं-खार आंतकी अबू तल्हा रशीद को उसके तीन साथियों को ढे़र कर दिया गया था। अब शहीद की पत्नी अपनी मांगो को लेकर भूख हड़ताल पर बैठ गई हैं। शहीद की पत्नी की मांग है कि जब तक यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नहीं आएंगे तब तक भूख हड़ताल पर बैठी रहेंगी। शहीद की पत्नी का कहना है कि अगर 20 नवम्बर तक सीएम योगी मिलने नहीं आते हैं तो शहीद की पत्नी अनिश्चित कालीन भूख हड़ताल पर चली जाएंगी।

वीडियो देखने के लिए यहां किल्क करें-https://www.youtube.com/watch?v=905Z2L4FlBk&feature=youtu.be

 

Martyr wife

ये हैं मांगे
शहीद की पत्नी संगीता देवी की मांग है कि देश की सुरक्षा को जवान चाहिए तो परिवार को सीएनजी पंप चाहिए। उनका कहना है कि जब तक बेटा बड़ा हो पंप पर दो फौजी सुरक्षा के लिए तैनात होने चाहिए। साथ ही गांव में शहीद के नाम पर स्कूल व शहीद की प्रतिमा गांव में लगाने की मांग की है।

Martyr wife

एक सप्ताह से बैठी हैं भूख हड़ताल पर
शहीद की पत्नी एक सप्ताह से भूख हड़ताल पर बैठी हुई हैं। बता दें कि शहीद की पत्नी परिवार सहित भूख हडताल पर बैठ जाने से जिला प्रशासन में हड़कम्प के मच गया है। लेकिन इन सबसे प्रशासन कैसे निबटेगा अभी इसपर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। शहीद की पत्नी घर में ही भूख हड़ताल का बैनर लगा कर भूखहड़ताल पर बैठी हैं। हालत बिगड़ने से दीवार पर ही ग्लूकोज की बोतल को लगा कर उसके स्वास्थ्य का ध्यान रखा जा रहा है।

 

Martyr wife

क्या कहते हैं अधिकारी
एडीए प्रशासन अरविंद कुमार ने बताया कि शहीद की पत्नी के भूख हड़ताल पर बैठने की जानकारी मिली है। बताया कि उनकी जो भी मांगे हैं उसके बारे में शासन को अवगत करा दिया गया है। साथ ही बताया कि शहीद की पत्नी को शासन की ओर से 20 लाख रुपए का चेक दिया जा चुका है और जो भी सहायता हो सकेगी उसको पूरा किया जायेगा।

 

Martyr wife

बतादें कि बुधवार को शहीद ब्रह्मपाल सिहं भाटी का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव सोझना रानी पहुंचा था। इलाके के लोगो को ब्रह्मपाल सिहं भाटी के पार्थिव शरीर पहुंचने की जानकारी मिली तो हजारों की तदात में लोगो का हुजूम शहीद के पार्थिव शरीर की एक मात्र झलक पाने के लिए दौड़ पडा। बता दें कि शहीद ब्रहमपाल सिंह अपने पीछे दो बेटी और एक बेटा छोड़ कर गया है। बड़ी बेटी करीब 9 साल की है। जबकि सबसे छोटा बेटा आशू पांच साल का है।

Show More
pallavi kumari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned