scriptStudents reach Hungary border from Ukraine by tiranga flag around bus | Indian students amid Russia-Ukraine war : यूक्रेन में भारतीय छात्रों का सुरक्षा कवच बना तिरंगा,ऐसे बचा रहा जान | Patrika News

Indian students amid Russia-Ukraine war : यूक्रेन में भारतीय छात्रों का सुरक्षा कवच बना तिरंगा,ऐसे बचा रहा जान

Indian students amid Russia-Ukraine war रुस और यूक्रेन के युद्ध के बीच फंसे भारतीय छात्रों को दूसरे देश के बार्डर तक आने के लिए अपने तिरंगा झंडा का सहारा लेना पड़ रहा है। भारतीय अपनी बस में तिरंगा झंडा लगाकर ही दूसरे देश के बार्डर तक पहुंच रहे हैं। रुस बम वर्षक विमान भारतीय तिरंगा को देखकर वहां पर हमला नहीं कर रहे हैं। जहां भी भारतीय तिरंगा दिखाई देता है रूस हमला बंद कर देते हैं।

बुलंदशहर

Published: March 04, 2022 02:54:34 pm

Indian students amid Russia-Ukraine war यूक्रेन से भारतीय छात्रों (Indian students in Ukraine) के दल अब वापस आ रहे हैं। एमबीबीएस करने के लिए यूक्रेन गए छात्र वहां से आकर परिजनों को वहां की भयावहता के बारे में जानकारी दे रहे हैं। गुलावठी के दो छात्र सकुशल अपने घर पहुंचे तो उनके चेहरे पर खुशी साफ दिखाई दी। गुलावठी के चार छात्र यूक्रेन में फंसे थे। जिसमें से दो वापस आ गए हैं। जबकि दो अभी यूक्रेन में ही हैं। उन्होंने बताया कि वह यूक्रेन में तिरंगे की सुरक्षा के बीच रहे। इसी तिरंगे के कारण ही वे वापस अपने देश को लौट सके हैं।
Indian students amid Russia-Ukraine war : तिरंगा बचा रहा भारतीय छात्रों की जान,झंडे की सुरक्षा के बीच पहुंचे हंगरी बार्डर
Indian students amid Russia-Ukraine war : तिरंगा बचा रहा भारतीय छात्रों की जान,झंडे की सुरक्षा के बीच पहुंचे हंगरी बार्डर
उन्होंने बताया कि युद्ध के बीच उन्हें भारत तक पहुंचने के लिए कई दिन बंकर में गुजारने पड़े। कई दिनों तक भूखों रहना पड़ा। इतना ही नहीं पैदल कई मील चले उसके बाद वे अपने घर तक पहुंच सकें हैं। अपने बच्चों को देखकर परिजनों की आंख में आंसू हैं। गुलावठी के बुद्देखा मोहल्ला निवासी मोहम्मद जैद और मोहम्मद फरहान यूक्रेन के विनिशिया सिटी से एमबीबीएस की पढ़ाई के लिए गए थे। दोनों आपस में चचेरे भाई है।

Russia Ukraine War : रुसी हमले में भारतीय छात्र की मौत के बाद परिजनों की बढ़ी चिंता,सरकार पर विपक्ष का हमला

देर रात दोनों छात्र अपने घर सकुशल पहुंचे। फरहान ने बताया कि खारकीव एवं कीव जैसी सिटी में हालात अधिक खराब हैं। उन्होंने बताया कि कैसे उन्होंने पांच दिन और रातें एक बंकर के भीतर गुजारी। चारों तरफ धमाके और ऊपर उड़ते रुसी हवाई जहाज के बीच दहशत में रहे। वे गत 28 फरवरी को बंकर से निकलकर बस से हंगरी बार्डर तक पहुंचे। बस में भी उन्होंने चारों ओर तिरंगा लगाया हुआ था। बस से उतरने के बाद भी उनको करीब 15 किमी तक पैदल चलना पड़ा। उसके बाद वे रोमानिया एयरपोर्ट तक पहुंचे। वहां पहुंचने पर वे जहाज से दिल्ली एयरपोर्ट पहुंचे और वहां से अपने घर गुलावठी। सकुशल वतन वापसी पर छात्रों और उनके परिजनों ने प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) का आभार जताया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

सिर्फ पेट्रोल और डीजल ही नहीं, पांच चीजें हुईं सस्ती, केरल सरकार ने भी घटाया वैट, चेक करें आपके शहर में क्या हैं दाम'हमारे लिए हमेशा लोग पहले होते हैं', पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कटौती पर पीएम मोदीIPL 2022: टिम डेविड की तूफानी पारी, मुंबई ने दिल्ली को 5 विकेट से हराया, RCB प्लेऑफ मेंArchery World Cup: भारतीय कंपाउंड टीम ने जीता गोल्ड मेडल, फ्रांस को हरा लगातार दूसरी बार बने चैम्पियनआय से अधिक संपत्ति मामले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी करार, 26 मई को सजा पर होगी बहसऑस्ट्रेलिया के चुनावों में प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन हारे, एंथनी अल्बनीज होंगे नए PM, जानें कौन हैं येगुजरात में BJP को बड़ा झटका, कांग्रेस व आदिवासियों के लगातार विरोध के बाद पार-तापी नर्मदा रिवर लिंक प्रोजेक्ट रद्दजापान में होगा तीसरा क्वाड समिट, 23-24 मई को PM मोदी का जापान दौरा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.