भूमिपूत्रों का टूटा सब्र, किया हंगामा दिया धरना

pankaj joshi | Publish: Apr, 26 2019 01:07:06 PM (IST) | Updated: Apr, 26 2019 01:07:07 PM (IST) Bundi, Bundi, Rajasthan, India

रामगंजबालाजी. लंका गेट रोड स्थित पुरानी कृषि उपज मण्डी में समर्थन मूल्य खरीद केन्द्र पर गुरुवार को चमकहीन गेहूं की तुलाई नहीं होने पर पांच दिन से यहां ढेरा जमाए किसानों ने हंगामा कर तुलाई कार्य बंद करवा दिया।

बूंदी. रामगंजबालाजी. लंका गेट रोड स्थित पुरानी कृषि उपज मण्डी में समर्थन मूल्य खरीद केन्द्र पर गुरुवार को चमकहीन गेहूं की तुलाई नहीं होने पर पांच दिन से यहां ढेरा जमाए किसानों ने हंगामा कर तुलाई कार्य बंद करवा दिया। किसान खरीद केन्द्र पर धरना देकर बैठ गए और नारेबाजी करने लगे। मामला जिला कलक्टर तक पहुंचने के बाद उन्होंने मण्डी मेें पड़े चमकहीन गेहूं की खरीद के गुणवत्ता निरीक्षक को निर्देश दिए तब जाकर मामला शांत हुआ।
मण्डी में खरीद केन्द्र पर सुबह दस बजे से खरीद शुरू होनी थी, लेकिन दोपहर एक बजे तक भी तुलाई कार्य शुरू नहीं हुआ। बाद में गुणवत्ता निरीक्षक रामपाल कुमावत ने सूखे गेहूं की खरीद शुरू कर दी। इससे चमकहीन गेहूं लेकर बैठे किसानों में आक्रोश बढ़ गया। किसानों का कहना था कि जब चमकहीन गेहूं को पास करने को लेकर सरकार ने पचास फीसदी छूट दे दी है तो फिर खरीद क्यों नहीं हो रही है। किसानों ने भाजपा के प्रदेश प्रतिनिधि रूपेश शर्मा व पार्षद मुकेश माधवानी को मौके पर बुलाया। दोनों ने किसानों से वार्ताकर मण्डी के अधिकारियों के समक्ष आक्रोश जताते हुए वहां चल रहा तुलाई कार्य बंद करवा दिया। उनकी अगुवाई में किसान सम्पूर्ण माल की तुलाई के आदेश नहीं मिलने तक कार्यालय के बाहर धरना देकर बैठ गए। भाजपा नेता शर्मा ने भारतीय खाद्य निगम के जनरल मैनेजर संजीव भास्कर व एरिया मैनेजर पवन कुमार बोथरा व जिला कलक्टर रूक्मणी रियार को किसानों की पीड़ा से अवगत कराया और पांच दिन से ठहरे हुए किसानों का माल नहीं तुलने तक धरना देने की चेतावनी दी। बाद में कलक्टर के निर्देश पर तहसीलदार भारत सिंह मौके पर पहुंचे और उन्होंने मण्डी यार्ड में पड़े सभी किसानों का चमकहीन माल की तुलाई का आश्ïवासन दिया। इसके बाद तुलाई कार्य शुरू हुआ। इस दौरान योगेश शृंगी, दुर्गालाल कोली, भुगतान प्रभारी राम सिंह मीणा, ठेकेदार प्रतिनिधि सुखजिंदर सिंह आदि मौजूद थे।
सरकारी कांटों पर हो तुलाई
इधर भारतीय किसान संघ ने गुरुवार को जिला कलक्टर को मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन देकर सरकारी नियमों में ढिलाई बरतते हुए सभी तरह के गेहूं सरकारी कांटे में तुलाने की मांग की। जिलाध्यक्ष मोहनलाल नागर, संभाग मंत्री प्रहलाद नागर, बूंदी तहसील अध्यक्ष किशनलाल ने बताया कि सरकारी कांटों पर चमकहीन गेहूं की खरीद नहीं होने से किसान परेशान हैं। ऐसे में किसान तीन सौ रु पए प्रति क्विंटल से कम में बाजार में बेचने को मजबूर है
चमकहीन गेहूं के सर्वे के लिए उच्च स्तरीय दल गठित
बूंदी. जिले में बेमौसम हुई बारिश एवं ओलावृष्टि से 50 प्रतिशत से अधिक खराब हुए चमकहीन गेहूं का सर्वे उच्च स्तरीय दल करेंगे। जिला कलक्टर रुक्मणि रियार ने बताया कि समर्थन मूल्य पर 50 फीसदी से ज्यादा खराब गेहंू की खरीद के निर्धारित मानकों में छूट देने के लिए केंद्र सरकार के स्तर पर उच्चस्तरीय दल गठित किए गए हैं, जो 26 अप्रेल से दौरा करेंगे। इन दलों का गठन प्रभावित किसानों को अधिक से अधिक राहत देने के उद्देश्य से किया गया है। कलक्टर ने बताया कि केन्द्र सरकार ने चार अधिकारियों के दो दलों का गठन किया है। इनमें आई.जी.एम.आर.आई. के सहायक निदेशक आर.के. सिंह एवं तकनीकी अधिकारी राकेश बराला का संयुक्त दल कोटा, बारां एवं बूंदी जिलों में कार्य करेगा। यह दल मण्डियों तथा समर्थन मूल्य खरीद के लिए स्थापित केन्द्रों पर 26 अप्रेल से दौरा कर गेहूं के नमूनों को एकत्र करेगा। उपभोक्ता मामलात, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय द्वारा गठित दोनों दल गेहूं की चमक के संबंध में एकत्र किए गए नमूनों को भारतीय खाद्य निगम, क्षेत्रीय प्रयोगशाला में जांच कर एक समेकित रिपोर्ट पेश करेंगे।
-गुणवत्ता के मापदण्ड को लेकर केन्द्र पर पचास फीसदी चमकहीन गेहूं खरीदने के निर्देश जारी हुए है। ऐसे में जिला कलक्टर के निर्देश पर वैकल्पिक व्यवस्था से यार्ड में पड़े माल की तुलाई का कार्य शुरू करवाया गया है। फिलहाल किसानों से चमकहीन माल नहीं लाने का आह्वान किया है।
राम कुमावत गुणवत्ता निरीक्षक, समर्थन मूल्य खरीद केन्द्र बंूदी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned