कृषि वैज्ञानिकों ने बांधी काली पट्टी, मांगा अधिकार

कृषि विज्ञान केंद्र के कृषि वैज्ञानिकों ने सातवां वेतनमान लागू करने की मांग को लेकर यहां सोमवार को काली पट्टी बांधकर काम किया।

By: pankaj joshi

Published: 07 Jul 2020, 07:31 PM IST

कृषि वैज्ञानिकों ने बांधी काली पट्टी, मांगा अधिकार
सातवां वेतनमान लागू करने की मांग
बूंदी. कृषि विज्ञान केंद्र के कृषि वैज्ञानिकों ने सातवां वेतनमान लागू करने की मांग को लेकर यहां सोमवार को काली पट्टी बांधकर काम किया।
नई दिल्ली भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद् से वित्त पोषित एवं राज्य कृषि विश्वविद्यालय से सम्बद्ध कृषि विज्ञान केन्द्रों पर कार्यरत वैज्ञानिकों को छठें वेतन आयोग के अनुसार वेतन का भुगतान हो रहा। जबकि कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों को छोडकऱ आइसीएआर नई दिल्ली की सभी संस्थाओं के शैक्षणिक, अशैक्षणिक, कृषि महाविद्यालय, कृषि विश्वविद्यालयों के निदेशक, अधिष्ठाता, प्राचार्य, सहायक आचार्य, आचार्य आदि कार्मिकों को भी सातवें वेतनमान का लाभ मिलना शुरू हो गया। ऐसे में कृषि विज्ञान केन्द्र पर कार्यरत वैज्ञानिकों को इसका फायदा नहीं देने को उन्होंने अन्यायपूर्ण रवैया बताया। यहां कृषि वैज्ञानिकों ने काली पट्टी बांधकर विरोध जताया। जल्द मांग को पूरा करने की गुहार लगाई।

फसल बीमा की अन्तिम तिथि 15 जुलाई
बूंदी. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत जिले में ऋणी, गैर ऋणी, बटाईदार कृषकों के लिए बीमा करवाने की अंतिम तिथि 15 जुलाई निर्धारित की गई। कृषि विभाग के उपनिदेशक रमेश चन्द जैन ने बाताया की किसान जिस जिले में निवास करता हो उसी जिले की परिधि क्षेत्र में बटाई की भूमि ही मान्य होगी। बीमा इकाई तहसील, पटवार मण्डल रहेगी। ऋणी किसान स्वे‘छा से यदि बीमा नहीं करवाना चाहे तो वह 8 जुलाई तक सम्बन्धित बैंक में जाकर आवेदन कर दे। किसान बीमा बैंक, बीमा कंपनी के अधिकृत एजेन्ट, ई-मित्र से करवा सकेंंगे।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned