फूल उत्पादक किसानों में छाई मायूसी, लॉकडाउन में बर्बाद हुई गुलाब की खेती

जिले में गुलाब की खेती लॉकडाउन की भेंट चढ़ गई। यहां हिण्डोली क्षेत्र में एक दर्जन से अधिक किसानों ने गुलाब सहित विभिन्न किस्मों के फूलों की खेत की थी। अब एक पखवाड़े से फूलों की बिक्री पर लगी रोक के बाद फूल खेतों में ही नष्ट हो गए।

By: pankaj joshi

Published: 01 Apr 2020, 09:54 PM IST

फूल उत्पादक किसानों में छाई मायूसी, लॉकडाउन में बर्बाद हुई गुलाब की खेती
बड़ानयागांव. जिले में गुलाब की खेती लॉकडाउन की भेंट चढ़ गई। यहां हिण्डोली क्षेत्र में एक दर्जन से अधिक किसानों ने गुलाब सहित विभिन्न किस्मों के फूलों की खेत की थी। अब एक पखवाड़े से फूलों की बिक्री पर लगी रोक के बाद फूल खेतों में ही नष्ट हो गए। इनमें सर्वाधिक नुकसान गुलाब की खेती में हुआ। जबकि नवरात्रि में इन किसानों को इस बार अधिक मुनाफा मिलने की उम्मीद थी। अब खेतों में ही नष्ट होते फूलों को देखकर किसानों के चेहरों पर मायूसी छा गई।
मंदिरों में थी सर्वाधिक बिक्री
बड़ानयागांव के किसान मोहनलाल कुमावत, प्रकाश सांबलिया व जयराम कुमावत ने बताया कि फूलों की सर्वाधिक बिक्री नवरात्रि में होनी थी। इस वर्ष पानी की उपलब्धता रहने से फूलों की खेती अच्छी थी, लेकिन ‘ऊपरवाले’ की मार ने सब कुछ बर्बाद कर दिया। अबके किसी मंदिर में फूलों की बिक्री नहीं हुई।
50 रुपए किलो बिक रहा था गुलाब
हिण्डोली क्षेत्र में पैदा हुआ गुलाब लॉकडाउन से पहले तक 50 रुपए किलो बिक रहा था। इससे किसानों को अच्छा मुनाफा हो रहा था।रोज एक क्विंटल गुलाब की खपत हो रही थी, अब सारी मेहनत पर पानी फिर गया। मोगरा, हजारा के फूल तो किसान तोड़ ही नहीं रहे।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned