कोई श्रमिक पैदल जाने के लिए मजबूर न हों

कोई भी श्रमिक पैदल अपने गन्तव्य को जाने के लिए मजबूर न हो, यदि कोई श्रमिक परिवार रास्तों पर पैदल चलते हुए पाएं तो उनके लिए भोजन, पानी की व्यवस्था सहित वाहन सुविधा उपलब्ध करवाई जाए।

By: pankaj joshi

Published: 16 May 2020, 07:10 PM IST

कोई श्रमिक पैदल जाने के लिए मजबूर न हों
जिला कलक्टर ने उपखंड अधिकारियों को दिए निर्देश, अधिकारी पेट्रोलिंग कर रोकेंगे श्रमिकों का पैदल पलायन
बूंदी. कोई भी श्रमिक पैदल अपने गन्तव्य को जाने के लिए मजबूर न हो, यदि कोई श्रमिक परिवार रास्तों पर पैदल चलते हुए पाएं तो उनके लिए भोजन, पानी की व्यवस्था सहित वाहन सुविधा उपलब्ध करवाई जाए। इसके अलावा कैंप स्थापित करें और भोजन, जल, शौचालय की व्यवस्थाएं करें। यह निर्देश शुक्रवार को यहां जिला कलक्टर अन्तर सिंह नेहरा ने जिले के सभी उपखंड अधिकारियों को दिए।
जिला कलक्टर नेहरा ने कहा कि सभी उपखण्ड अधिकारी, तहसीलदार एवं पुलिस अधिकारी मुख्य मार्गों पर पेट्रोलिंग कर यह तय करें कि श्रमिकों का पैदल पलायन न हो। यदि पैदल श्रमिक मिले तो उसे समझाकर बसों के माध्यम से निकटतम लॉकडाउन शिविर में भेजे। बाहरी क्षेत्रों से आने वाले परिवारों की स्क्रीनिंग करवाकर उन्हें होम आइसोलेट करवाए। साथ ही प्रति दूसरे दिन जांच हो। कोरोना लक्षण पाए जाने की स्थिति में मरीज को हॉस्पिटलाइज किया जाए। होम आइसोलेट करने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में वार्डपंचों व सरपंचों का भी सहयोग लिया जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि उपखण्ड अधिकारी उपखण्ड स्तरीय सभी प्रबन्धन समितियों की सोमवार तक बैठक आयोजित कर विभागीय निर्देशों की पालना कराए। जिन अधिकारियों एवं कार्मिकों की लम्बे समय से नियुक्ति कर रखी है, उन्हें रोटेशन के आधार पर लगाए।
बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर अमानुल्लाह खान, मुख्य कार्यकारी अधिकारी मुरलीधर प्रतिहार, जिला रसद अधिकारी सुरेन्द्र सिंह राठौर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. गोकुल लाल मीणा, एसीपी डीओआइटी पंकज मीणा सहित उपखण्ड अधिकारी एवं विकास अधिकारी उपस्थित थे।
आरोग्य सेतु एप अपलोड कराए
होम आइसोलेट किए जाने वाले प्रत्येक व्यक्तियों के मोबाइल में आरोग्य सेतु एप अपलोड करने के साथ ही उसमें आवश्यक सूचनाएं भी अपलोड करवाए। ब्लॉक स्तर पर कोविड-19 सेंटरों की पर्याप्त व्यवस्था रखें। बूंदी जिला अभी तक सुरक्षित है, आगे भी सुरक्षित रहे इसके प्रयास किए जाए।
राशन की समस्या नहीं आने दे
जिला कलक्टर ने कहा कि बाहर से आने वाले प्रवासियों व श्रमिकों की उपखण्ड स्तर पर जांच करवाकर सेम्पल भिजवाए। संबंधितों को आइसोलेट करे। होम आइसोलेट किए जाने वाले व्यक्तियों को राशन की समस्या नहीं आने दे। अन्य क्षेत्रों से जो भी व्यक्ति प्रवासियों को लेकर आएगा तो संबंधित को क्वॉरंटीन करने की जिम्मेदारी उसकी भी होगी। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि आने वाले प्रवासियों के संबंध में हमारी प्राथमिकता आने वालों को क्वॉरंटीन करना होना चाहिए। ताकि संक्रमित पाए जाने की स्थित में संक्रमण को रोका जा सके।
तालेड़ा पहुंचे मप्र के मजदूरों को आज भेजेंगे घर
तालेड़ा. तालेड़ा में गुरुवार को जयपुर से पैदल चलकर मध्यप्रदेश के पन्ना जिले में जाने के लिए पहुंचे 4 बच्चों व 6 महिलाओं सहित 26 मजदूरों को शनिवार सुबह भाजपा किसान मोर्चा के राष्ट्रीय सदस्य अनिल जैन द्वारा दो निजी वाहन से पन्ना भेजा जाएगा। मजदूरों को भेजने के लिए स्थानीय उपखण्ड अधिकारी रजत विजयवर्गीय द्वारा प्रशासनिक प्रक्रिया पूरी कर पास जारी किए गए हैं। गुरुवार दोपहर को तालेड़ा पहुंचे मजदूरों की उपखण्ड अधिकारी ने रुकने और खाने की व्यवस्था करवाई। जयपुर से पन्ना की दूरी 800 किमी है ये मजदूर 225 किमी तालेड़ तक पैदल ही चलकर आ गए। शनिवार को इनको उपखण्ड अधिकारी की मौजूदगी में रवाना किया जाएगा।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned