जिम्मेदारों का नहीं ध्यान, कहां बिताएं सुकून के दो पल

ऐतिहासिक झील किनारे स्मृति कुंज उद्यान में सुकून के दो पल बिताने की ठोर नहीं मिल रही। उद्यान देख-रेख के अभाव में उजाड़ होने लगा।

By: pankaj joshi

Updated: 20 Nov 2020, 06:30 PM IST

जिम्मेदारों का नहीं ध्यान, कहां बिताएं सुकून के दो पल
स्मृतिकुंज उद्यान से उजड़ रही हरियाली
जैतसागर झील किनारे पार्क की हो रही दुर्दशा, पर्श उखड़ा
शाम के समय घूमने वालों का रहता था मेला, अब स्मैकचियों का बन रहा अड्डा
बूंदी. ऐतिहासिक झील किनारे स्मृति कुंज उद्यान में सुकून के दो पल बिताने की ठोर नहीं मिल रही। उद्यान देख-रेख के अभाव में उजाड़ होने लगा। लाइटें पूरी तरह से टूट गई और पर्श कई जगहों से उखड़ गया। जबकि बीते एक दशक पहले की बात करें तो शाम ढलने के साथ ही झील के किनारे इस उद्यान में बड़ी संख्या में लोग पहुंचते थे। झूले लगे होने से बच्चों के लिए खास आकर्षण का केंद्र था। इसकी देखरेख का जिम्मा नगर परिषद के पास है। जब तक जिम्मेदारों का ध्यान रहा पार्क की खूबसूरती बनी रही। अब इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा। लाइटें खराब होने से शाम होते ही आस-पास अंधेरा रहने लग गया, जिससे उद्यान में स्मैकचियों का जमावड़ा होने लग गया। इस मामले में कई जागरूक लोगों ने शिकायत भी की, लेकिन पुलिस और अन्य अधिकारियों ने कोई कार्रवाई नहीं की। जानकार सूत्रों ने बताया कि उद्यान की खूबसूरती के लिए फव्वारा लगाया गया था जो भी कई वर्षों से नहीं चल रहा। लाइटें टूटने के बाद से ही नहीं जली।
उद्यान से अधिकतर लाइट का वायर भी चोरी हो गया। ऐसे में लोगों को सुकून से बैठने की ठोर भी अब यहां नहीं दिखती।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned