अंकेक्षण आक्षेपों पर कार्रवाई करने के लिए सबसे अच्छा समय

वित्तीय वर्ष 2020-21 जिला स्तरीय समिति की द्वितीय त्रैमासिक बैठक गुरुवार को कलक्ट्रेट सभागार में जिला कलक्टर आशीष गुप्ता की अध्यक्षता में हुई।

By: Narendra Agarwal

Published: 18 Dec 2020, 11:24 AM IST

बूंदी. वित्तीय वर्ष 2020-21 जिला स्तरीय समिति की द्वितीय त्रैमासिक बैठक गुरुवार को कलक्ट्रेट सभागार में जिला कलक्टर आशीष गुप्ता की अध्यक्षता में हुई।
बैठक में जिला कलक्टर ने कहा कि अंकेक्षण प्रतिवेदनों की अनुपालना में कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। चुनावों के बीच का समय अनुपालना बनवाने एवं अंकेक्षण आक्षेपों पर कार्रवाई करने के लिए सबसे अच्छा समय है। उन्होंने अंकेक्षण आक्षेपों के निस्तारण की गति को बढ़ाने के निर्देश दिए। जिला कलक्टर ने अंकेक्षण आक्षेपों के निस्तारण के लिए दो वरिष्ठ अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपकर आक्षेपों के शीघ्र निस्तारण के निर्देश दिए हैं।
उन्होंने जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी को निर्देश दिए कि अपने अधीन सभी संस्थाओं के आक्षेपों की प्रगति सुनिश्चित करते हुए समस्त विकास अधिकारियों की निरंतर बैठक ली जाए।
प्रगति असंतोषजनक रहने पर उत्तरदायी अधिकारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाए। बैठक में अतिरिक्त निदेशक एवं सदस्य सचिव पूनम मेहता ने बताया कि संभागीय आयुक्त की ओर से वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए संभागाधीन संस्थाओं में एक मार्च को बकाया आक्षेपों के न्यूनतम 40 प्रतिशत आक्षेपों के निस्तारण का लक्ष्य आवंटित किया गया, जबकि द्वितीय त्रैमास तक संस्थाओं की ओर से 20 प्रतिशत लक्ष्य अर्जित किए जाने थे, लेकिन कृषि उपज मंडी समिति सुमेरगंजमंडी 20 प्रतिशत को छोडक़र अन्य किसी भी संस्था की ओर से अपेक्षित लक्ष्यों की प्राप्ति नहीं की गई।उन्होंने बताया कि जिले की स्वायत्तशासी संस्थाओं की ओर 14731 सामान्य आक्षेप, 77 प्रारूप प्रालेख एवं 186 गबन प्रकरणों में सन्हित राशि 83.68 लाख बकाया है, जिसके लिए समिति की ओर से सम्बन्धित संस्थाधिकारियों को निर्देशित किया गया। बैठक में मुख्य कार्यकारी अधिकारी मुरलीधर प्रतिहार, अधिकारी व अन्य सदस्य उपस्थित रहे।

Narendra Agarwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned