बड़ौदिया, सथूर में निकाली घास भेरू की सवारी

हिण्डोली क्षेत्र के बड़ौदिया सहित विभिन्न गांवों में सोमवार को दीपावली महापर्व के दूसरे दिन भाई दूज के अवसर पर घास भैरू महोत्सव का आयोजन किया।

By: pankaj joshi

Published: 17 Nov 2020, 06:38 PM IST

बड़ौदिया, सथूर में निकाली घास भेरू की सवारी
लोक संस्कृति की परंपरा रखी कायम
हिण्डोली. हिण्डोली क्षेत्र के बड़ौदिया सहित विभिन्न गांवों में सोमवार को दीपावली महापर्व के दूसरे दिन भाई दूज के अवसर पर घास भैरू महोत्सव का आयोजन किया। यहां कोरोना गाइडलाइन की पालना करते हुए सवारी निकाली। लोक संस्कृति की अनूठी मिशाल बड़ोदिया घास भेरू महोत्सव पूरे देश में प्रसिद्ध है। यहां पर हर वर्ष हजारों की संख्या में लोग घास भेरू की सवारी में निकलने वाले हैरतअंगेज करतब देखने आते थे। जिसमें सैलानी भी शामिल रहते थे। इस बार कोरोना की मार के चलते यहां पर साधारण तरीके से महोत्सव का आयोजन किया। गांव के युवाओं ने प्रमुख स्थानों पर झांकियां सजाई। शिव प्रतिमा से पानी निकलना, चकरी चलना, बावड़ी में पत्थर तेरना, सूत पर भारी-भरकम पत्थर लटकाना सहित कई कलाओं ने प्रदर्शन किया। शाम को एक दर्जन बैलों की जोडिय़ों के साथ ग्रामीणों ने घासभेरू की सवारी निकाली। एवं देश प्रदेश के समृद्धि के विकास की कामना की। यहां पर आयोजित कार्यक्रम को पंचायत आज भी इक्कावन टंके अब रुपयों में बदल गए। में ही पूरा करवाती है। इसी में से सभी के पैसे नाई, कुम्हार,खाती आदि को हिसाब से वितरण किए जाते हैं इसी प्रकार ग्राम सथूर में भी घास भेरू की सवारी निकाली। ठीकरदा में भी सवारी निकाली गई।
पूरे गांव को किया सेनेटाइज, बांटे मास्क : बड़ौदिया में साधारण तरीके से निकाली घास भेरू की सवारी से पहले ग्राम पंचायत सरपंच राधेश्याम गुप्ता ने पंचों व लोगों की सहमति से गांव में ट्रैक्टर से सेनीटाइज करवाया। उसके बाद लोगों को मास्क वितरण भी किए। इस दौरान कई लोग मास्क लगाएं नजर आए। इस दौरान थाना प्रभारी मुकेश मीणा, तहसीलदार केसरी सिंह मय जाब्ता ग्राम पंचायत भवन के पास मौजूद रहे।
सथूर में निकाली घास भेरू की सवारी
बड़ानयागांव. क्षेत्र के सथूर में भाई दूज के अवसर पर सोमवार शाम को सोशल डिस्टेंस के साथ घास भैरू की सवारी निकाली गई। यहां इस बार कोरोना संक्रमण के चलते घास भेरू महोत्सव के आयोजन के तहत होने वाले जादुई कलात्मक झांकियों का प्रदर्शन नहीं किया गया। घास भैरू की सवारी एक दर्जन से अधिक बैलों की जोड़ी के साथ तेजाजी के चौक से विधिवत पूजा अर्चना के साथ शुरू हुई। जो कस्बे के प्रमुख मोहल्लों से होकर ससुराल से पीहर हरि की पैड़ी पहुंची । सवारी से पूर्व ग्राम पंचायत की ओर से लोगों को 500 मास्क का वितरण किया गया। इस दौरान पंच पटेल सहित कस्बे के प्रबुद्ध जन मौजूद रहे।
नोताडा. कस्बे में इस बार भी घास भैरु कि सवारी पारम्परीक तौर तरीके से निकाली गई। रविवार सायंकाल को पंच पटेल व ग्रामीण एकत्र होकर गाजे बाजे के साथ घास भैरु चोक में पहुंच कर शुभ मुहूर्त में पुजा अर्चना करके बैलो कि जोडी जोत कर सवारी को रवाना किया। ग्रामीणों ने सवारी को रात में ही निकालने कि कोशिश भी की। दूसरे दिन सोमवार को सुबह भैरुजी की सवारी रवाना हुई जो तेजाजी चोक, खाई चोक, देहीखेडा रोड होते हुए अपने स्थल पर पहुंची। नवजातो को बेल के नीचे निकाल कर लम्बी आयु कि कामना कि व घास भेरू पर तेल, कामी, व प्रसादी भी चढाई गई बुजुर्ग हिडे देते रहे ।शाम छह बजे सवारी अपने स्थल पर पहुंचने के बाद पंच पटेल गांव मे दिपावली कि राम राम करते हुए रघुनाथजी महाराज मठ में पहुचे ओर बैलो का पुजन करवाया उसके बाद गांव के जमीदार गोधा परीवार के बैलो का पुजन करवाया फिर ग्रामीणो ने बैलों कि बजाय अपने ट्रैक्टरों का पूजन कर गांव में घुमाए।
माटूंदा. कस्बे में सोमवार को घासभैरू की सवारी निकाली गई। यहां घासभैरू की सवारी को लेकर ग्रामीणों में खासा उत्साह रहा। ग्रामीणों ने घासभैरू की पूजा-अर्चना की। इस दौरान बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।
बाबा घास भैरू की सवारी निकाली
देई. कस्बे में भाईदूज के अवसर पर बाबा घास भेरू की सवारी निकाली गई। सवारी तडक़े अपने स्थान से प्रारम्भ होकर बूंदी रोड, विवेकानन्द सर्किल, बस स्टैण्ड, नई सब्जीमंडी, कुम्हार मोहल्ला, खेजडा पाडा, शीतला चौक, घाणा खाळ, प्रकाशी कुई, लोहडी चैहटी, घास का दरवाजा होते हुए वापस अपने स्थानक पर पहुंची। सवारी में बैलों को बिना रस्सी गले में डालकर जोता जाता है। जूडी को लोगों द्वारा दबाया जाता है जिससे यहां जूडी को दबाने के लिए लोगों मे भारी कशमकश चलती रही। बैलों के बिदकने से कुछ लोगों के हल्की चोट भी आई। सवारी में नवजात बच्चों को जूडी के नीचे से निकाला गया। मान्यता है कि बाबा की सवारी निकलने से गांव मे सालभर रोग दोष दूर रहते थे। सवारी में पूरे गांव के सभी धर्म के लोग भाग लेते है।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned