बूंदी आगार रोज झेल रहा 7 लाख का नुकसान, बाड़े में बंद बसें

लॉकडाउन ने राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम की बसों का ब्रेक लगा दिया।

By: pankaj joshi

Published: 19 Apr 2020, 06:17 PM IST

बूंदी आगार रोज झेल रहा 7 लाख का नुकसान, बाड़े में बंद बसें
-घाटे से जूझ रहे निगम के सामने लॉकडाउन ने बढ़ाई चिंता
- 65 मार्गों पर था बसों का संचालन
बूंदी. लॉकडाउन ने राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम की बसों का ब्रेक लगा दिया। पहले से ही घाटे से जूझ रहे निगम के सामने लॉकडाउन ने समस्या और बढ़ा दी। प्रदेश की करीब 900 से अधिक रोडवेज बसें लॉकडाउन के चलते बाड़े से बाहर नहीं आ रही।रोडवेज को लाखों रुपयों का नुकसान हो गया।अकेले बूंदी जिले की बात करें तो 2 करोड़ रुपए की आय का नुकसान हो चुका। ऐसे में यह कह पाना मुश्किल होगा कि आम दिनों में देश-प्रदेश के विभिन्न शहरों को जोडऩे वाली यह बसें कब तक सडक़ों पर चलती हुई नजर आएगी।
कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए केंद्र सरकार की ओर से 22 मार्च को जनता कफ्र्यू लगाया, इसी दिन बूंदी आगार की बसें यहां बाड़े में खड़ी हो गई थी। बाद में प्रदेश फिर देशभर में लॉकडाउन घोषित हो गया। बसें सिर्फ एक दिन मजदूरों को छोडऩे के लिए जिले के बरड़ में पहुंची और वहां फंसे सैकड़ों मजदूरों को बारां छोडकऱ आई।
प्रतिदिन 7 लाख रुपए की आय
रोडवेज सूत्रों के अनुसार बूंदी आगार से प्रतिदिन जिले व प्रदेश सहित दूसरे राज्यों के शहरों में 65 मार्गों पर बसों का संचालन किया जा रहा था।सभी शिड्यूल पर बसों के दैनिक संचालन से रोडवेज को प्रतिदिन करीब 7 लाख 20 हजार रुपए यात्री भाड़ा की आय थी।ऐसे में 22 मार्च से एक भी बस का संचालन नहीं होने से बूंदी आगार अब तक करीब दो करोड़ रुपए की आय नहीं हो सकी। बसें 65 शेड्यूल के हिसाब से करीब 21 हजार किलोमीटर का फेरा लगाती है।
सूना पड़ा बस स्टैंड
बसों का संचालन बंद रहने से यहां बस स्टैंड पर कोई नहीं आता। दिनभर सन्नाटा छाया रहने लग गया।जबकि बस स्टैंड पर चौबीसों घंटे रौनक रहा करती थी। बसों के बंद रहने से यहां आस-पास पेट पालने वाले भी घरों में लॉक होकर रह गए।
‘लॉकडाउन के चलते वर्तमान में रोडवेज की बसों का संचालन नहीं हो रहा।आगार की बसें वर्कशॉप में खड़ी है। जैसे ही मुख्यालय से निर्देश मिलेंगे उसी अनुरूप बसों का संचालन शुरू किया जाएगा’।
विक्रम सिंह सोलंकी, मुख्य प्रबंधक, बूंदी आगार

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned