बूंदी में पहली बार दिखाई दी खूबसूरत चिडिय़ाएं, लाल मुनिया की सुंदरता ने मोहा मन

बूंदी. जिले की प्रदूषणमुक्त आबोहवा व समृद्ध जैवविविधता न सिर्फ स्थानीय व प्रवासी पक्षियों को बल्कि दुर्लभ प्रजातियों को भी रास आ रही है।

By: pankaj joshi

Published: 03 Jan 2020, 12:53 PM IST

बूंदी. जिले की प्रदूषणमुक्त आबोहवा व समृद्ध जैवविविधता न सिर्फ स्थानीय व प्रवासी पक्षियों को बल्कि दुर्लभ प्रजातियों को भी रास आ रही है।
जिले में इस साल हुई व्यापक बरसात व कड़ाके की सर्दी के चलते मुख्यालय के समीप ही खूबसूरत लाल मुनिया पक्षी दिखाई दिए। इसके अलावा लाल व काले सिर वाली खूबसूरत मुनिया पक्षी भी बड़ी संख्या में यहां पर पहुंची।गुरुवार को पक्षी विशेषज्ञ पृथ्वी सिंह राजावत ने बर्डवॉचिंग के दौरान रामनगर गांव के तालाब के पास दुर्लभ प्रजाति की लाल मुनिया को देखा। राजावत ने बताया कि तालाब के पास खेतों के किनारे लाल मुनिया का जोड़ा घोंसला बनाते दिखाई दिया। साथ ही काले व लाल सिर वाली मुनिया पक्षी भी इसी तालाब किनारे बड़ी घास में देखी गई। खूबसूरत लाल मुनिया चिडिय़ा की जिले में पहली बार उपस्थिति दर्ज हुई।
जानकारी के अनुसार देशभर में पाई जाने वाली सात प्रकार की मुनिया में राजस्थान में इंडियन सिल्वर बिल, ग्रीन मुनिया, ब्लेक हेडेड मुनिया, रेड मुनिया और स्ट्रीक थ्रोटेड मुनिया की प्रजातियां पाई जाती है। उनमें से रेड मुनिया दुर्लभ प्रजाति की व शर्मिली है। यह गोरैया के आकार की सुर्ख लाल रंग व चमकीली तिकोनी छोटी चोंच वाला सुंदर पक्षी है तथा यह कुछ विशिष्ट प्रकार की घास के बीजों को खाती है। रेड अवाडवट या रेड मुनिया का राजस्थान में फैलाव प्रमुखतया माउंटआबू, कोटा और मध्य अरावली में देखा जाता है।ऐसे में बूंदी में इस बार शीतकाल के दौरान इसका दिखाई देना क्षेत्र के लिए सुखद पहलू है।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned