गोभी की बम्फर पैदावार, दामों में गिरावट से किसान सांसत मे

कस्बे सहित क्षेत्र के कई गांवों में इस बार गोभी का बम्पर उत्पादन हुआ है। बम्पर उत्पादन से गोभी के दाम गिरने से किसानों की चिंता बढ़ गई है। यहां के किसान प्रतिदिन दो दर्जन से अधिक वाहनों में

हिण्डोली. कस्बे सहित क्षेत्र के कई गांवों में इस बार गोभी का बम्पर उत्पादन हुआ है। बम्पर उत्पादन से गोभी के दाम गिरने से किसानों की चिंता बढ़ गई है। यहां के किसान प्रतिदिन दो दर्जन से अधिक वाहनों में गोभी भरकर बूंदी, कोटा, देवली, टोंक, जयपुर की मंडियों में बेचने ले जा रहे हैं। जानकारी के अनुसार इस बार अच्छी बारिश होने से किसानों ने खेतों में फू लगोभी व पत्तागोभी सब्जी लगाई थी। सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी होने से गोभी का बम्पर उत्पादन हुआ है। गत दिनों तक तो गोभी के भाव अच्छे थे। बाद में उत्पादन बढऩे पर गुरुवार को कोटा मंडी में गोभी 5 से 7 किलो रुपए तक बिकी। जिससे किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें खिंच गई है। किसानों ने बताया कि गोभी के दाम 10 से 15 रुपए किलो रहने पर ही उन्हें लाभ मिल सकता है। दाम कम रहने से नुकसान उठाना पड़ेगा। ग्राम अमरतिया, बालोला, कांसकी, आतरी, सिंघाडी, हिण्डोली, हनुमान का झोपड़ा, शिवपुरी, दौलूंदा, मांदोलिया का बरडा व भोजपुरा गांवों में गोभी का उत्पादन हो रहा है।

क्या कहते हैं किसान
पांच वर्षों में पहली बार गोभी का बंपर उत्पादन हुआ है। किसान दिनभर खेत पर गोभी तोडकऱ शाम को मंडियों में बेचने ले जाते हैं।
मदन लाल सैनी, किसान अमरतिया

बम्पर उत्पादन के साथ गोभी के दाम कम होने से किसान काफ ी परेशान है। उन्हें आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है। सरकार को चाहिए कि गोभी का भी समर्थन मूल्य घोषित करें ताकि किसानों को राहत मिल सके ।
भंवरलाल सैनी, किसान अमरतिया

बम्पर उत्पादन होता है तब भाव काफ ी गिर जाता है। यह हमेशा किसानों का दुर्भाग्य रहा है। किसानों की लागत भी नहीं निकल पाती है।
मुकेश कहार, किसान हनुमान का झोपड़ा

Narendra Agarwal Desk
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned