सीएडी ने बदले मुख्य नहर के क्षतिग्रस्त आउटलेट्स

सीएडी प्रशासन द्वारा नहरों में जल प्रवाह से पूर्व कई बरसों बाद के पाटन ब्रांच मुख्य नहर के क्षतिग्रस्त आउटलेट्स बदलकर नए लगाए हैं।

By: pankaj joshi

Published: 08 Oct 2020, 08:20 PM IST

सीएडी ने बदले मुख्य नहर के क्षतिग्रस्त आउटलेट्स
कापरेन. सीएडी प्रशासन द्वारा नहरों में जल प्रवाह से पूर्व कई बरसों बाद के पाटन ब्रांच मुख्य नहर के क्षतिग्रस्त आउटलेट्स बदलकर नए लगाए हैं। नहरों में जल प्रवाह शुरू होने से पूर्व सीएडी द्वारा मुख्य ब्रांच सहित डिस्ट्रीब्यूटरी एवं माइनरों की जंगल सफाई व मरम्मत कार्य करवाए जा रहे हैं। जिससे जल प्रवाह के दौरान ओवरफ्लो होने की समस्या एवं पानी की बर्बादी नहीं हो साथ ही अंतिम छोर के किसानों को भी पानी मिल सके। मुख्य नहर में लगे आउटलेट्स करीब 20 वर्षों से नहीं बदले गए है। जिसके चलते आउटलेट्स काफी पुराने होने से क्षतिग्रस्त होने से जल प्रवाह के दौरान व्यर्थ पानी बहता रहता हैं। किसानों का कहना है कि मुख्य नहर पर कैचमेंट के दौरान लगाई गई लोहे की नालियां गलने से टूट चुकी हैं। उसके बाद किसानों द्वारा ही कुछ क्षतिग्रस्त आउटलेट बदले गए। आउटलेट क्षतिग्रस्त होने से नहरों में रिसाव होकर नहर कटने व व्यर्थ पानी बहने का खतरा बना रहता हैं। वहीं कई आउटलेट मिट्टी भर जाने से पर्याप्त पानी नहीं देते हैं। सीएडी द्वारा मुख्य नहर के क्षतिग्रस्त आउटलेट बदलने से काफी लाभ मिलेगा। सीएडी एईएन राजेन्द्र बैरवा ने बताया कि पिछले वर्ष जल प्रवाह के दौरान क्षतिग्रस्त आउटलेट्स में रिसाव होने व गल्ले पडऩे की समस्या आई थी। जिसे देखते हुए इस बार एस्टिमेट बनाकर दिया गया। बजट की स्वीकृति मिलने पर के पाटन ब्रांच पर जहां जेसीबी मशीन पहुंच पाई वहां के आउटलेट्स बदलने का कार्य जल प्रवाह से पूर्व करवाया जा रहा हैं। चेन संख्या 955 तक आउटलेट्स बदलने का कार्य अंतिम दौर पर है।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned