बाल विवाह न करने का लिया संकल्प,दुष्परिणामों को समझा

बालविवाह के प्रति जनचेतना जागृत करने के अभियान के तहत महिला अधिकारिता विभाग द्वारा द्वितीय चरण में रविवार को धनेश्वर के ग्रामीण क्षेत्र में जनचेतना संगोष्ठी का आयोजन किया गया।

By: pankaj joshi

Published: 05 Apr 2021, 09:59 PM IST

बाल विवाह न करने का लिया संकल्प,दुष्परिणामों को समझा
बूंदी. बालविवाह के प्रति जनचेतना जागृत करने के अभियान के तहत महिला अधिकारिता विभाग द्वारा द्वितीय चरण में रविवार को धनेश्वर के ग्रामीण क्षेत्र में जनचेतना संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी की अध्यक्षता सहायक निदेशक भैरूप्रकाश नागर ने की। कार्यक्रम समन्वयक सर्वेश तिवारी की अगुवाई में लोकगीतों व भजनों के साथ महिलाओं से लोकभाषा में संवाद स्थापित कर उन्हें बालविवाह के दुष्परिणामों के बारे में समझाया गया। इसके साथ ही स्वंय बाल विवाह न करने व दूसरों को भी न करने की शपथ दिलवाई। उल्लेखनीय कार्य करने पर कार्यकर्ताओं को सम्मानित किया गया। वहीं वर्धमान महावीर खुला विश्वविद्यालय के निर्देशन में विश्वविद्यालय द्वारा गोद लिए धनेश्वर ग्राम में संगोष्ठी आयोजित की गई। लोक भाषा में संवाद करते हुए प्रदीप चित्तौड़ा व काउंसलर मोना शर्मा ने बाल विवाह के दुष्परिणामों से अवगत करवाया। जनचेतना कार्य में सहयोगी रहे कोटा सीओ प्रदीप चित्तौड़ा, महिला सामाजिक कार्यकर्ता अनिता व कनवास से आए स्काउट स्थानीय संघ सचिव को स्मृति चिह्न व प्रशस्ति पत्र द्वारा सम्मानित किया गया। विभाग के रविराज मिश्रण ने आभार जताया।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned