गो संरक्षण एवं संवर्धन अधिनियम में संशोधन का विरोध

गोवंश संरक्षण समिति के तत्वावधान में बजरंगदल व विहिप के तहसील भर से आए कार्यकर्ताओं ने बुधवार को सरकार के कथित गो संरक्षण एवं संवर्धन अधिनियम में संशोधन के विरोध में नैनवां उपखंड अधिकारी कार्यालय पर जोरदार प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन उपखंड अधिकारी को दिया।

By: pankaj joshi

Published: 10 Sep 2020, 06:23 PM IST

गो संरक्षण एवं संवर्धन अधिनियम में संशोधन का विरोध
बजरंगदल व विहिप कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन
नैनवां. गोवंश संरक्षण समिति के तत्वावधान में बजरंगदल व विहिप के तहसील भर से आए कार्यकर्ताओं ने बुधवार को सरकार के कथित गो संरक्षण एवं संवर्धन अधिनियम में संशोधन के विरोध में नैनवां उपखंड अधिकारी कार्यालय पर जोरदार प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन उपखंड अधिकारी को दिया। ज्ञापन में लिखा कि गोशालाओं में स्थायी निधि की व्यवस्था के लिए राज्य सरकार द्वारा स्टाम्प डयूटी अधिभार से प्राप्त राशि को गोशालाओं के संचालन के लिए दी जानी थी। राज्य में वर्तमान में 3500 गोशालाएं हैं। जिनमें से 1980 गोशालाओं में एक वित्तिय वर्ष में 180 दिन की ही सहायता दी जा रही है। शेष दिनों की व्यवस्था गोशालाओं को स्वयं करनी पड़ रही है। सभी गोशालाओं को पूरे वर्ष पूरी राशि उपलब्ध कराई जाए और गो संवद्र्धन अधिनियम में किए संशोधन को निरस्त किया जाए। प्रदर्शन में बजरंगदल के जिला संयोजक लक्की चोपड़ा, विहिप के प्रखंड मंत्री संजय नागर, प्रखंड संयोजक बद्रीप्रसाद शर्मा, नगर अध्यक्ष बबलू शर्मा, कार्यवाहक अध्यक्ष विनोद साहू, बजरंगदल प्रखंड सह संयोजक धनराज सैनी, सुरक्षा प्रमुख सीताराम गुर्जर, सह प्रमुख मुकेश नागर, धीरज शर्मा, गौशाला सचिव मुकेश नागर, प्रबंधक पुखराज ओसवाल, प्रखंड गोरक्षा प्रमुख महेन्द्र खींची, कालूलाल मीणा, आशुतोष आचार्य, पारस जांगिड़, समेन्द्रसिंह, विजय नोगिया, विजय मीणा आदि शामिल थे।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned