डीएपी की किल्लत ने बढ़ाई किसानों की परेशानी

सरसों की बुवाई का समय आने के साथ ही किसानों को डीएपी खाद की किल्लत सताने लगी है। क्षेत्र के किसान बरसात रुकने के बाद पर्याप्त नमी को देखते हुए खेतों हकाई जुताई और सरसों की बुवाई के लिए बीज व खाद की व्यवस्था में जुट गए हैं, लेकिन क्षेत्र में मांग के अनुसार डीएपी खाद की आपूर्ति नहीं होने से पर्याप्त खाद नहीं मिल रहा है।

By: pankaj joshi

Published: 08 Oct 2021, 07:28 PM IST

डीएपी की किल्लत ने बढ़ाई किसानों की परेशानी
दुकानों पर पांच-पांच कट्टे दिए
कापरेन. सरसों की बुवाई का समय आने के साथ ही किसानों को डीएपी खाद की किल्लत सताने लगी है। क्षेत्र के किसान बरसात रुकने के बाद पर्याप्त नमी को देखते हुए खेतों हकाई जुताई और सरसों की बुवाई के लिए बीज व खाद की
व्यवस्था में जुट गए हैं, लेकिन क्षेत्र में मांग के अनुसार डीएपी खाद की आपूर्ति नहीं होने से पर्याप्त खाद नहीं मिल रहा है।
किसानों का कहना है कि डीएपी खाद के लिए सुबह से दुकानों के चक्कर काट रहे हैं। कई दुकानदार खाद आना ही नहीं बताते हैं। वहीं जिन दुकानों पर खाद है, वहां भी पांच पांच कट्टे दिए जा रहे हैं। जिससे पूर्ति नहीं हो रही है। किसानों ने प्रशासन से शीघ्र पर्याप्त मात्रा में डीएपी खाद उपलब्ध करवाने व कृषि अधिकारियों की देखरेख में वितरण करवाते हुए आवश्यकता के अनुसार ही खाद दिलाने की मांग की है।
460 कट्टे आए, एक घंटे में ही हुए वितरित
नैनवां. नैनवां उपखंड में डीएपी खाद की किल्लत दूर नहीं हो पाने से खाद आते ही किसान लेने दौड़ पड़ते हैं। गुरुवार को कस्बे में एक खाद की दुकान पर आए 460 कट्टे एक घंटे में ही वितरित हो गए। सुबह 6 बजे दुकान पर खाद ट्रक पहुंचते ही उस समय ही बड़ी संख्या में किसान खाद लेने पहुंच गए। दुकानदार ने बताया कि कट्टे कम होने व लेने वाले अधिक आ जाने से प्रति किसान दो-दो कट्टे ही वितरित किए। इधर दुकानदार ने कृषि विभाग के अधिकारियों को बताये बिना ही खाद का वितरण कर दिया। सहायक कृषि अधिकारी गणेश सोनी ने बताया कि खाद वितरित करने के बाद दुकानदार ने खाद आने की सूचना दी। दुकानदारों को पाबंद किया है कि खाद आते ही विभाग के अधिकारियों को सूचना दें। विभाग की निगरानी में खाद का वितरण करें।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned