मनमानी पर लगेगा अंकुश, ऊपरी आदेशों से प्रतिनियुक्तियों पर कसा शिकंजा

शिक्षा विभाग ने शिक्षकों व कार्मिकों की व्यवस्था में बदलाव किया गया, अब स्कूलों में कार्यरत शिक्षकों व कार्मिकों को शिक्षण अथवा कार्य व्यवस्था के आदेश ऊपरी जारी नहीं किए जा सकेंगे।

By: Narendra Agarwal

Published: 30 Nov 2020, 11:08 AM IST

बूंदी. शिक्षा विभाग ने शिक्षकों व कार्मिकों की व्यवस्था में बदलाव किया गया, अब स्कूलों में कार्यरत शिक्षकों व कार्मिकों को शिक्षण अथवा कार्य व्यवस्था के आदेश ऊपरी जारी नहीं किए जा सकेंगे। जी हां! इस संबंध में शिक्षा विभाग ने शाला दर्पण पोर्टल पर नया माड्यूल शुरू कर दिया। उक्त व्यवस्था से उन आदेशों पर अंकुश लगेगा, जिससे कार्मिक शिक्षण व्यवस्था के नाम पर अपने इच्छित स्थान पर जमे रहते हैं। ऐसे में नए आदेश के तहत अब कार्यालय में जमे किसी भी कार्मिक को शिक्षण कार्य व्यवस्था किसी भी विद्यालय या कार्यालय में लगाया जाता है तो उसे इस माड्यूल के जरिए कार्यमुक्ति व कार्यग्रहण सुनिश्चित करना होगा। इस संबंध में माध्यमिक शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी ने प्रदेश के सभी शिक्षा अधिकारियों को आदेश जारी किए।

हो सकेंगी मॉनिटरिंग
इसी के साथ हर शिक्षण व्यवस्था की जानकारी शिक्षा अधिकारियों की निगरानी में रहेगी तथा शाला दर्पण पोर्टल पर उपलब्ध रहेगी, जिसे पोर्टल पर आसानी से देखा जा सकेगा। शाला दर्पण पर शुरू किए गए इस नए माड्यूल से ही शिक्षण व्यवस्था तथा कार्य व्यवस्था के आदेश जारी किए जा सकेंगे। इन आदेशों के आधार पर संबंधित शाला प्रधान कार्मिक या शिक्षक को कार्यमुक्त अथवा कार्यग्रहण करा सकेंगे।

कार्यालय, स्कूलों में लगे शिक्षकों व कार्मिकों की ड्यूटी अब नए माड्यूल के जरिए होगी। विभाग के शाला दर्पण पोर्टल पर ऑनलाइन माड्यूल शुरू किया जिसके माध्यम से कार्य मुक्ति व कार्यग्रहण होगा। इससे विभागीय अधिकारी मॉनिटरिंग कर सकेंगे।
तेजकंवर, जिला शिक्षा अधिकारी (मा.),बूंदी

Narendra Agarwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned