आबकारी व पुलिस ही बंधी के लिए पनपा रही शराब माफिया!

बूंदी जिले में अवैध शराब का कारोबार खूब फल-फूल रहा। यहां जिम्मेदार महकमे के अधिकारी ही शराब माफियाओं को पनपा रहे। यह सब कुछ हो रहा मासिक बंधी के खेल में।

By: pankaj joshi

Published: 22 Nov 2020, 06:26 PM IST

आबकारी व पुलिस ही बंधी के लिए पनपा रही शराब माफिया!
अवैध दुकानें खुलवाने और उनसे मासिक बंधी लेने का मामला
डिप्टी के बाद आबकारी निरीक्षक व गार्ड हुए ट्रेप, बूंदी में खूब फलफूल रहा शराब का अवैध कारोबार
नागेश शर्मा
बूंदी. बूंदी जिले में अवैध शराब का कारोबार खूब फल-फूल रहा। यहां जिम्मेदार महकमे के अधिकारी ही शराब माफियाओं को पनपा रहे। यह सब कुछ हो रहा मासिक बंधी के खेल में। जी हां! इन शराब के कारोबारियों से बंधी लेते पहले लाखेरी के डिप्टी और अब आबकारी विभाग के गार्ड व निरीक्षक ट्रेप हो चुके। दोनों ही बार इस बात का खुलासा हुआ कि पुलिस और आबकारी विभाग बूंदी जिले में शराब के अवैध कारोबार को शह दे रहे। लाखेरी डिप्टी के यहां हुई कार्रवाई में तो अवैध मात्रा में जमा शराब भी मिली थी। जिसे बाद में आबकारी विभाग ने पहुंचकर जब्त किया। ऐसा ही वाकया शुक्रवार को हुई कार्रवाई में देखने को मिला। आबकारी विभाग का गार्ड व निरीक्षक मिलकर अवैध दुकान चलाने और लाइसेंस की दुकान से मासिक बंधी ले रहे थे। वह 1 लाख रुपए से अधिक की वसूली कर भी चुके थे।
दूसरे राज्यों से ला रहे शराब
जिले में माफिया दूसरे राज्यों से शराब लाकर इन अवैध दुकानों पर बेच रहे। इसमें सर्वाधिक शराब हरियाणा राज्य से आ रही। कई बार बंधी का खेल नहीं जमने पर कार्रवाई में इसका खुलासा भी हो चुका।
एक दुकान से 10 हजार की बंधी
जानकार सूत्रों ने बताया कि आबकारी विभाग एक दुकान से 10 हजार रुपए की बंधी वसूल रहा बताया। इसका खुलासा ट्रेप की कार्रवाई में भी हुआ। लाखेरी का डिप्टी भी इसी प्रकार झालीजी का बराना में शराब की दुकान से बंधी की रकम लेते पकड़ा गया था। बंधी तय होने के बाद जिम्मेदार दुकान संचालकों को मनमानी का लाइसेंस दे देते हैं। वे बेखौफ होकर रात-रातभर अवैध तरीके से शराब बेचते हैं।
वैध दुकानों की नहीं देते सूचना
आबकारी विभाग जिले में वैध दुकानों की लोकेशन की सूचना नहीं देता। कई जने इस लोकेशन को जानने के लिए आरटीआइ तक का सहारा ले चुके, लेकिन अधिकारी इसकी सही जानकारी नहीं देते। यहां जानकार सूत्रों ने बताया कि लाइसेंस की प्रक्रिया हर साल होने लग गई। लेकिन पिछली दुकानों को भी बंद नहीं कराया जाता। ताकि आबकारी विभाग वसूली जारी रख सके।
गांव-गांव शराब की दुकान
शराब की अवैध दुकान खुलवाने का तो मानों पुलिस और आबकारी विभाग ने ठेका ही ले लिया हो। इन विभागों के अधिकारियों के हौसलें इस कदर बुलंद हो चुके कि गांव-गांव शराब की दुकानें होने की बात कहें तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होंगी। इस बारे में कई बार पीडि़त ग्रामीण शिकायत लेकर जिला कार्यालयों तक पहुंचते भी हैं, लेकिन ठोस कार्रवाई नहीं होने से वह भी थक हारकर चुप होने को मजबूर हो जाते हैं।
अवैध दुकानों के खिलाफ अभियान शुरू करेंगे। बिना लाइसेंस चल रही दुकानों पर कार्रवाई की जाएगी।
मनोज बिस्सा, जिला आबकारी अधिकारी, बूंदी
आबकारी निरीक्षक व गार्ड को जेल भेजने के आदेश
रिश्वत लेते पकड़े गए थे
बूंदी. बूंदी एसीबी टीम ने रिश्वत लेते पकड़े केशवरायपाटन वृत के आबकारी निरीक्षक शिवप्रताप सिंह राणा व गार्ड रामनिवास जाट को शनिवार को कोटा न्यायालय में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेजने के आदेश दिए। दोनों की कोविड जांच कराई गई। रिपोर्ट आने के बाद उन्हें बूंदी ब्यूरो से जेल में शिफ्ट किया जाएगा। बूंदी एसीबी के डिप्टी तरुणकांत सोमाणी की अगुवाई में टीम ने शुक्रवार को मासिक बंधी के 10 हजार रुपए लेते पकड़ा था। आबकारी निरीक्षक व गार्ड ने मिलकर अरनेठा रेलवे स्टेशन के निकट अवैध शराब की दुकान खुलवा रखी थी। जिसके खिलाफ केशवरायपाटन पुलिस ने कार्रवाई की।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned