किसानों के विरोध प्रदर्शन के बाद गेहूं की ट्रॉलियों को किया पास

एफसीआई ने राजफेड से खरीद कर भेजी ट्रॉलियों के गेहंू को नापास करते हुए लेने से मना कर दिया। इसके बाद किसानों के विरोध प्रदर्शन के बाद गेहूं की ट्रॉलियां पास किया गया।

By: Narendra Agarwal

Updated: 15 May 2021, 06:48 PM IST

तालेड़ा. एफसीआई ने राजफेड से खरीद कर भेजी ट्रॉलियों के गेहंू को नापास करते हुए लेने से मना कर दिया। इसके बाद किसानों के विरोध प्रदर्शन के बाद गेहूं की ट्रॉलियां पास किया गया। एफसीआई प्रशासन की मनमानी के चलते शुक्रवार को तालेड़ा के राजफैड गेहूं खरीद केंद्र पर दोपहर तक तुलाई बंद रही। शुक्रवार को सवेरे 10 बजे करीब तालेड़ा खरीद केंद्र पर बद्रीलाल, नरेश सुमन, कन्हैयालाल, मुकेश चौधरी, मोडूलाल, नंदराज, चेतराम, महावीर सहित एक दर्जन से अधिक किसान उनके पास पहुंचे । किसानों ने बताया कि तालेड़ा राजफैड के गेहूं खरीद केंद्र पर तुलाई बंद कर दी गई है। इस समस्या को लेकर भाजपा किसान नेता अनिल जैन के नेतृत्व सभी किसान तालेड़ा नायब तहसीलदार को साथ लेकर खरीद केंद्र पहुंचे। जहां तुलाई बंद होने का विरोध जताया। इसके बाद एफसीआई के कोटा मंडल प्रबन्धक निपुण त्रिखा से बात कर उन्हें अवगत कराया तथा समाधान नहीं होने पर धरना प्रदर्शन की चेतावनी देने के बाद निपुण त्रिखा ने एफसीआई बूंदी के एरिया मैनेजर शशि शर्मा को तालेड़ा केंद्र पर भेजा और सेम्पल से अवगत कराने को कहा। तालेड़ा राजफेड खरीद केंद्र के व्यवस्थापक इलियास अंसारी ने बताया कि एफसीआई प्रशासन द्वारा पूर्व में तालेड़ा खरीद केंद्र की 5 गाडिय़ां बूंदी एफसीआई गोदाम से गेहूं को खराब बताकर नापास कर वापस भेज दिया गया। जिससे तालेड़ा खरीद केंद्र पर तुलाई बंद कर दी गई थी। किसानों की समस्या को लेकर लोकसभा अध्यक्ष के निजी सहायक, बूंदी सहकारी समिति के उप रजिस्ट्रार मुकेश मोहन गर्ग, तालेड़ा उपखंड अधिकारी कमल मीणा एवं बूंदी जिला कलक्टर कार्यालय को पूरे घटनाक्रम से अवगत कराया। जिसके बाद एफसीआई के मंडल प्रबधक निपुण त्रिखा ने दोपहर बाद तुलाई के लिए मौखिक सहमति जारी की। उसके बाद तुलाई शुरू हुई।

Narendra Agarwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned