बूंदी की भौगोलिक स्थिति को देखते हुए हेलमेट की अनिवार्यता पर हो पुनर्विचार

शहर के राजनीतिक दल के नेताओं और व्यापारिक प्रतिष्ठानों, सामाजिक व स्वयंसेवी संगठनों से जुड़े प्रतिनिधियों ने सोमवार को जिला कलक्टर आशीष गुप्ता से मुलाकात कर शहर में बुधवार से होने वाली हेलमेट की अनिवार्यता पर पुनर्विचार कर शहर को इससे मुक्त रखकर हाइवे पर लागू रखने की मांग की।

By: Narendra Agarwal

Updated: 15 Sep 2020, 11:43 AM IST

 

बूंदी. शहर के राजनीतिक दल के नेताओं और व्यापारिक प्रतिष्ठानों, सामाजिक व स्वयंसेवी संगठनों से जुड़े प्रतिनिधियों ने सोमवार को जिला कलक्टर आशीष गुप्ता से मुलाकात कर शहर में बुधवार से होने वाली हेलमेट की अनिवार्यता पर पुनर्विचार कर शहर को इससे मुक्त रखकर हाइवे पर लागू रखने की मांग की।
प्रतिनिधिमंडल में शामिल नेताओं ने जिला कलक्टर को शहर की भौगोलिक स्थिति व वास्तविकता से अवगत कराया। उन्हें बताया कि सडक़ों के हाल ठीक नहीं। दिन-प्रतिदिन राहगीर गिरकर चोटिल हो रहे। शहर की बदहाल सडक़ों पर दुपहिया वाहन चलाना ही नहीं पैदल चलना भी दूभर हो रहा। प्रतिनिधिमंडल ने जिला कलक्टर से कहा कि शहर की सीमा से बाहर राज्य और राष्ट्रीय राजमार्ग पर जाने वाले दुपहिया वाहन चालकों के लिए हेलमेट अनिवार्य होना चाहिए। प्रतिनिधि मंडल में भाजपा के पूर्व जिला प्रवक्ता संजय लाठी व अमित निम्बार्क, कांग्रेस के पूर्व जिला प्रवक्ता मनीष मेवाड़ा, पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष राजीव लोचन गौतम व लोकेश शर्मा, पूर्व उपाध्यक्ष अमित शर्मा, नगर परिषद के पूर्व नेता प्रतिपक्ष लोकेश ठाकुर आदि शामिल थे।

Narendra Agarwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned