राजनीतिक हलकों में बढ़ी हलचल, टिकटों के लिए जता रहे दावेदारी

नगर निकायों का चुनाव कार्यक्रम जारी होने के बाद अब जिले में राजनीतिक दलों ने टिकाऊ और जिताऊ प्रत्याशियों की तलाश तेज कर दी। कई कार्यकर्ता टिकट की दौड़ में दिखाई पड़ रहे।

By: pankaj joshi

Updated: 09 Jan 2021, 08:02 PM IST

राजनीतिक हलकों में बढ़ी हलचल, टिकटों के लिए जता रहे दावेदारी
राजनीतिक दलों ने शुरू की टिकाऊ और जिताऊ प्रत्याशियों की तलाश
बूंदी नगर परिषद सहित नैनवां, लाखेरी, केशवरायपाटन, कापरेन एवं इंद्रगढ़ नगर पालिका में होंगे चुनाव
बूंदी. नगर निकायों का चुनाव कार्यक्रम जारी होने के बाद अब जिले में राजनीतिक दलों ने टिकाऊ और जिताऊ प्रत्याशियों की तलाश तेज कर दी। कई कार्यकर्ता टिकट की दौड़ में दिखाई पड़ रहे। हालांकि इस बार निकाय चुनाव में निर्दलीय भाग्य आजमाने वालों की भी भरमार होती दिख रही। जिले में बूंदी नगर परिषद सहित नैनवां, लाखेरी, केशवरायपाटन, कापरेन एवं इंद्रगढ़ नगर पालिका में चुनाव होंगे। टिकट पाने के लिए सभी पार्टियों के आवेदक अपनी-अपनी पार्टियों के बड़े नेताओं से सम्पर्क साध रहे। इधर, चुनाव की तिथि घोषित होने के बाद शहर और कस्बों के गली-मोहल्लों, चौराहों और चाय की थडिय़ों पर चुनावी चर्चा शुरू हो गई।
कहां कितने वार्ड
बूंदी नगर परिषद में इस बार 60 पार्षद चुने जाएंगे। इस बार सभापति की सीट सामान्य महिला के लिए आरक्षित हो गई। लाखेरी नगर पालिका में 35 पार्षद चुनें जाएंगे। लाखेरी में भी सामान्य महिला चेयरमैन बनेंगी। केशवरायपाटन नगर पालिका में 25 वार्ड पार्षद बनेंगे। यहां एससी वर्ग का पालिका अध्यक्ष बनेगा। इंद्रगढ़ में अबके 20 वार्ड बना दिए। यहां एससी वर्ग का चेयरमैन बनेगा। नैनवां में 25 वार्ड पार्षद ओबीसी पुरुष वर्ग से पालिकाध्यक्ष चुनेंगे। इसी प्रकार कापरेन नगर पालिका में परिसीमन के बाद 25 वार्ड कर दिए, यहां एससी वर्ग का पालिकाध्यक्ष बनेगा।
निर्दलीय बिगाड़ेंगे गणित
अधिकतर स्थानीय निकाय चुनाव में निर्दलीयों के गणित बिगाडऩे का अंदेशा हो गया। जानकारों ने बताया कि परिसीमन के बाद वार्ड छोटे हो गए। इनमें मतदाताओं की संख्या कम होने से अब निर्दलीय प्रत्याशी अधिक संख्या में खड़े होने से राजनीतिक दलों के प्रत्याशियों की मुश्किलें बढ़ जाएंगी। इस लिया बताया गया कि अबके कई निकायों में दारोमदार निर्दलीयों पर भी टिकेगा।
बूंदी में दिग्गजों पर नजर
सभापति का पद महिला का आरक्षित होने से यहां सभी की नजर दिग्गजों पर आकर टिक रही। दोनों ही राजनीतिक दलों के बड़े नेताओं पर सभी की निगाह टिक गई। माना जा रहा कि बूंदी नगर परिषद के सफल संचालन के लिए मजबूत महिला को सीट पर बैठना होगा। हालांकि बूंदी नगर परिषद में पुराने अनुभवों को देखते हुए अभी यह सब कुछ कहना जल्दबाजी होगा। फिर भी कई नेता पत्नी और रिश्तेदार को चुनाव लड़ाने का मानस बना रहे।
टिकट बंटवारा बढ़ाएगा मुश्किलें
इस बार स्थानीय निकाय चुनाव में दोनों ही राजनीतिक दलों के लिए टिकट बंटवारा मुश्किलें बढ़ाएगा। बूंदी में 60 वार्डों के लिए भाजपा को अब तक ढाई सौ आवेदन मिल चुके। ऐसे में समिति के लिए चयन में परेशानी बढ़ेंगी। हालांकि वरिष्ठ नेता मिल बैठकर टिकट पर फैसले लेने की बात कर रहे।
चुनाव कार्यक्रम
11 जनवरी को लोक सूचना जारी होने के साथ पार्षद पद के लिए भरेंगे नामांकन
15 जनवरी 3 बजे तक प्रस्तुत होंगे नामांकन
16 जनवरी को 10.30 बजे से नामांकन पत्रों की संवीक्षा
19 जनवरी तक नाम वापस लिया जा सकेगा
20 जनवरी को चुनाव चिह्न आवंटित होंगे
28 जनवरी को सुबह 8 से शाम 5 बजे तक मतदान
31 जनवरी को सुबह 9 बजे से मतगणना
7 फरवरी को सभापति व पालिकाध्यक्ष चुने जाएंगे
8 फरवरी को उपसभापति व उपाध्यक्ष चुनेंगे

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned