चालू बता रखे नलकूप बंद मिले, पम्प हाउस की आधी मोटरें खराब

बीस दिनों से पम्पहाउस की मोटरे बंद मिली, सबसे अधिक जिन नलकूपों को चालू बताया जा रहा था, वे बरसात के समय से ही बंद पड़े मिले। बांध के अन्दर जाकर देखा तो पीने के पानी से फसलोंं की सिंचाई करते मिले।

By: pankaj joshi

Published: 04 May 2021, 09:22 PM IST

चालू बता रखे नलकूप बंद मिले, पम्प हाउस की आधी मोटरें खराब
मंत्री के निर्देश पर पहुंचे जलदाय विभाग के अभियंता
पीने का पानी पहुंच रहा अतिक्रमियों की फसलों में
नैनवां. बीस दिनों से पम्पहाउस की मोटरे बंद मिली, सबसे अधिक जिन नलकूपों को चालू बताया जा रहा था, वे बरसात के समय से ही बंद पड़े मिले। बांध के अन्दर जाकर देखा तो पीने के पानी से फसलोंं की सिंचाई करते मिले।
खेल राज्यमंत्री अशोक चांदना के निर्देश पर जलदाय विभाग के अधिशासी अभियंता राजेन्द्र भार्गव, मंत्री के निजी सचिव युवराज, पालिका उपाध्यक्ष आबिद हुसैन, राजकुमार गुर्जर व कनिष्ठ अभियंता डीपी चौधरी पाईबालापुरा पेयजल योजना का जलापूर्ति तंत्र को देखने पहुंचे तो उनको ऐसे हालात मिले। पहले पम्प हाउस को देखा तो पम्प हाउस पर लगी चार मोटरों में से दो मोटर खराब मिली। दोनों मोटरें बीस दिन से खराब पड़ी है। इनमें एक मोटर 40 हार्स पॉवर की व दूसरी मोटर 20 हॉर्सपावर की थी। दोनों मोटरें पेयजल योजना का पानी नैनवां भिजवाने के काम आती है। उसके बाद बांध में लगे नलकूपों की स्थिति देखने पहुंचे तो दो नलकूप बंद मिले। जिस नलकूप संख्या 6 में सबसे ज्यादा पानी है उसकी तो बिजली की डोरी ही गायब थी तथा नलकूप का प्लेटफार्म भी पूरी तरह ध्वस्त हो रहा था। दूसरे नलकूप में भी पानी की भरमार होने के बाद भी सर्विस डोरी काटकर बंद कर रखा था। अधिकारियों ने पेयजल योजना पर तैनात कर्मचारियों से पूछनेे पर कहा कि विभाग के कनिष्ठ अभियंता एक माह से कहते आ रहे है। नलकूपों को चालू ही नहीं करवाया जा रहा।
जलदाय विभाग के पानी-बिजली से फसलें करते मिले अतिक्रमी
अधिकारी नलकूपों को देखते हुए बांध के अन्दर पहुंचे तो बांध के अन्दर ही सैकड़ों बीघा में मूंग व तरबूजों की फसल लहलहाती दिखी। जलदाय विभाग के विद्युत कनेक्शनों से ही जमीन में बिजली की केबल डालकर व जमीन के अन्दर ही पाइप डालकर दो-दो किमी दूर तक पानी पहुंचाया जा रहा था। बांध के अन्दर पाइपों व बिजली की डोरियों का जाल बिछा मिला। अधिकारियोंं को देखकर फसल करने वाले भाग छूटे। एक स्थान से एक मोटर भी जब्त की है। जिससे दो किमी दूर तक पानी ले जाया जा रहा था।
पार्षदों नेे अधिशासी अभियंता को खरी-खरी सुनाई
नैनवां कस्बे में बिगड़ रही जलापूर्ति व्यवस्था में सुधार की मांग को लेकर सोमवार को नैनवां आए जलदाय विभाग के अधिशासी अभियंता को खरी-खरी सुनाई। विभाग के बिगड़े प्रबंधन को सुधारने के लिए खेल राज्यमंत्री अशोक चांदना के निर्देश पर अधिशासी अभियंता नैनवां आए थे। पार्षदों ने अधिशासी अभियंता को बताया कि विभाग का प्रबंधन बिगड़ा होने से ही कस्बे की जलापूर्ति व्यवस्था बिगड़ रही है। पाईबालापुरा पेयजल योजना पर नलकूप बंद पड़े होने व पम्प हाउस की दो मोटरें खराब होने से पेयजल योजना से क्षमता का आधा पानी भी नहीं मिल पाने से कस्बे में जलापूर्ति 96 घंटे पर पहुंच गई थी। पार्षदों ने कहा कि पेयजल योजना के नलकूपों से पर्याप्त पानी मिलने के बाद भी जलापूर्ति प्रबंधन बिगड़ा हुआ है। अधिशासी अधिकारी का घेराव करने पालिका उपाध्यक्ष आबिद हुसैन, पार्षद प्रमोद जैन, नबील अंसारी, रजनीश शर्मा, अमृतराज मीणा, मोहम्मद सलीम, गोविन्द सैनी, रजनीश शर्मा, उम्मेद नागर, राजकुमार गुर्जर, जावेद व नैनवां संयुक्त व्यापार मंडल के अध्यक्ष विनोद मारवाड़ा शामिल थे।
अधिशासी अभियंता का कहना
अधिशासी अभियंता राजेन्द्र भार्गव ने बताया कि पेयजल योजना के पम्प हाउस की दो मोटर बंद मिली। जिनको ठीक करवाया जाएगा। बांध के अन्दर के दो नलकूप बंद मिले। कुछ नलकूपों में पानी टूट रहा है। बंद नलकूपों को चालू करवाने की प्रक्रिया शुरू करवा दी तथा जिन नलकूपों में पानी टूट रहा है। उनमें पाइप बढ़ाकर पानी का डिस्चार्ज बढ़ाया जाएगा। बांध पर सिंचाई के लिए चल रही एक मोटर को भी जब्त किया है।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned