संसाधनों की कमी से जूझ रहा दबलाना प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र

ग्राम पंचायत दबलाना में स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र इन दिनों संसाधनों के अभाव में जूझ रहा है। जिससे यहां पर रोगियों को काफी परेशानी हो रही है।

By: pankaj joshi

Updated: 20 May 2021, 09:23 PM IST

संसाधनों की कमी से जूझ रहा दबलाना प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र
ग्रामीणों ने की चिकित्सालय क्रमोन्नति की मांग
हिण्डोली. ग्राम पंचायत दबलाना में स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र इन दिनों संसाधनों के अभाव में जूझ रहा है। जिससे यहां पर रोगियों को काफी परेशानी हो रही है। जानकारी के अनुसार दबलाना उप तहसील मुख्यालय है, यहां पर चिकित्सालय काफी पुराना है और चिकित्सालय की स्थिति भी काफी खराब है। गांव में पुराने भवन में ही चिकित्सालय संचालित हो रहा है।
भवन छोटा होने से चिकित्सक भी परेशान रहते हैं। चिकित्सालय में तीन चिकित्सकों के पद हैं, लेकिन एक खाली पड़ा हुआ है। चिकित्सालय में कुल 8 बेड हैं, जिनमें से चार टूटे हुए हैं। ऐसे में यहां पर रोगियों को भर्ती करने में परेशानी होती हैं। चिकित्सालय सूत्रों की मानें तो यहां पर प्रतिदिन 60 से 70 रोगियों का आउटडोर होता है, लेकिन सुविधाओं के अभाव में लोग परेशान रहते हैं। यहां के लोगों को लंबे समय से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में क्रमोन्नति का इंतजार है।
चार साल से बने चिकित्सक आवास लावारिस
यहां पर गत सात वर्ष पूर्व पुलिस थाने के पास चिकित्सा विभाग द्वारा चिकित्सा आवास के लिए चार भवन बने हैं, लेकिन वहां पर चिकित्सक व स्टाफ नहीं रहने से भवनों का उपयोग नहीं हो पा रहा है। कुछ भवन में दबलाना पुलिस के जवान आवास बनाकर रह रहे हैं। गांव के लोगों का कहना है कि यहां पर लाखों रुपए की लागत से चिकित्सक व कर्मचारी आवास बने थे, लेकिन 4 वर्ष से उनका उपयोग नहीं हो रहा है। यहां पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के लिए 10 बीघा भूमि आवंटित कर रखी हैं।
चिकित्सालय सूत्रों की माने तो दबलाना चिकित्सालय को दो बार कायाकल्प अवार्ड प्राप्त हो चुका है एवं वर्तमान में हाड़ौती क्षेत्र की एकमात्र पीएचसी है जो नेशनल क्वालिटी एश्योरेंस स्टैंडर्ड की रनर अप पीएचसी है। लेकिन टूटे हुए एवं जंग लगे हुए बेड को देखकर सर्वे टीम चयन कर पाएगी या नहीं। सूत्रों की माने तो राजस्थान की 6 पीएचसी नेशनल क्वालिटी एश्योरेंस स्टैंडर्ड के लिए रनर अप है। जिनमें से दबलाना भी शामिल है।
दबलाना बड़ा कस्बा है, यहां पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खोलना अति आवश्यक है। इसके लिए चिकित्सा विभाग व राज्य मंत्री से भी मांग की है। यहां पर 1 दर्जन से अधिक ग्राम पंचायतों के लोग सीधे जुड़ते हैं। चिकित्सा सुविधा नहीं मिलने से रोगियों को बूंदी ले जाना पड़ता है। यहां पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बनने पर रोगियों को सीधा लाभ मिलेगा।
रणजीत सिंह सोलंकी, सरपंच ग्राम पंचायत दबलाना।
दबलाना चिकित्सालय में आउटडोर 5 दर्जन रोगियों का प्रतिदिन होता है। यहां पर संसाधन बढऩे से रोगियों को फायदा मिलेगा। दो ऑक्सीजन कंसंट्रेटर व ऑक्सीजन सिलेंडर मिल जाए तो रोगियों का अच्छा उपचार हो सकता है।
डॉ. श्रीनाथ सोनी, आयुर्वेदिक चिकित्सा अधिकारी दबलाना।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned