व्याख्याता कम, सुविधाओं का भी अभाव, महाविद्यालय में छात्रों को हो रही परेशानी

कस्बे में स्थित राजकीय महाविद्यालय में व्याख्याताओं की कमी व सुविधाओं के अभाव में छात्रों को परेशानी हो रही है।

By: pankaj joshi

Published: 13 Oct 2021, 07:32 PM IST

व्याख्याता कम, सुविधाओं का भी अभाव, महाविद्यालय में छात्रों को हो रही परेशानी
हिण्डोली. कस्बे में स्थित राजकीय महाविद्यालय में व्याख्याताओं की कमी व सुविधाओं के अभाव में छात्रों को परेशानी हो रही है। जानकारी के अनुसार यहां पर द्वितीय वर्ष की कक्षाएं शुरू हो गई है। महाविद्यालय में कुल 5 विषय है। जिनमें समाजशास्त्र, हिंदी साहित्य, ज्योग्राफी, इतिहास सहित पांच विषय को पढ़ाने वाले मात्र दो ही व्याख्याता होने से छात्रों की पढ़ाई प्रभावित होती है। छात्रों का कहना है कि यहां पर प्रतिदिन जजावर, दुगारी, रानीपुरा, सांवतगढ़, बसोली, भवानीपुरा सहित कई दूरदराज के गांवों से छात्र-छात्राएं पढऩे आते हैं, लेकिन दो कालांश के बाद उन्हें वापस लौटना पड़ रहा है। छात्रों का कहना है कि यहां पर प्रथम वर्ष के करीब 200 छात्र 18 अक्टूबर से शिक्षण करने आएंगे। ऐसे में यहां पर उनके लिए फर्नीचर, कक्षों की भी कमी रहेगी।
1 माह में बदल देते हैं व्याख्याता
महाविद्यालय के अधिकारिक सूत्रों की माने तो हिण्डोली राजकीय महाविद्यालय बूंदी महाविद्यालय नोडल के अधीन आता है। यहां पर बूंदी से 1 माह के लिए व्याख्याताओं को भेजा जाता है, फिर दूसरा लगाते हैं। ऐसे में छात्रों के साथ समस्या रहती हैं कि वे व्याख्याताओं से सीधा संपर्क नहीं रख पाते। छात्रों का कहना है कि यहां पर स्थाई रूप से व्याख्याता लगाए जाए ताकि उनका शिक्षण कार्य सुचारू हो।
बजट स्वीकृति की मांग की है
महाविद्यालय में पढऩे वाले छात्रों ने राज्यमंत्री से यहां पर महाविद्यालय के लिए आवंटित भूमि पर भवन निर्माण की मांग की है। ताकि महाविद्यालय का भवन बन सके।
महाविद्यालय शिवराज नगर स्थित एक सरकारी भवन में संचालित है। फिलहाल यहां पर स्टाफ की कमी है।
रमेश चंद्र मीणा, प्राचार्य राजकीय महाविद्यालय हिण्डोली।


18 अक्टूबर से शुरू होगी महाविद्यालय में प्रथम वर्ष की कक्षाएं
ईडब्ल्यूएस व एससी की रिक्त 35 सीटों पर दोबारा लिए जाएंगे आवेदन
हिण्डोली. राजकीय महाविद्यालय में सत्र 2021-22 में बीए प्रथम वर्ष के छात्रों की कक्षाएं 18 अक्टूबर से शुरू होगी। महाविद्यालय के प्राचार्य रमेश चंद्र मीणा ने बताया कि यहां कुल 200 सीटों के लिए 355 आवेदन किए थे। जिनमें से 246 विद्यार्थियों के फार्म जमा किए गए हैं। 241 ने फीस जमा करवाई। मुख्य सूची में 165 विद्यार्थियों को प्रवेश दिया गया। ईडब्ल्यूएस की 20 सीटें और एससी की 15 सीट रिक्त रहने से 35 सीटों के लिए दोबारा आवेदन भरे जा सकेंगे। प्रधानाचार्य मीणा ने बताया कि आवेदन ऑनलाइन करने होंगे। जिसकी अंतिम तिथि 18 अक्टूबर व सत्यापन की तिथि 20 अक्टूबर है। सूची प्रकाशन 21 अक्टूबर को होगी। महाविद्यालय में दस्तावेज जमा कराने की अंतिम तिथि 25 अक्टूबर जमा करवाने की अंतिम तिथि 26 अक्टूबर को होगा।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned