मस्तकाभिषेक शांतिधारा चढ़ाया निर्वाण लड्डू

दशलक्षण पर्व के समापन पर रविवार को उतम ब्रह्मचर्य तप दिवस चतुर्दशी एवं बारहवें तीर्थंकर वासुपूज्य भगवान का मोक्ष कल्याण दिवस जैन नसिया मंदिर व बड़ा जैन मंदिर में मनाया गया।

By: pankaj joshi

Published: 20 Sep 2021, 07:16 PM IST

मस्तकाभिषेक शांतिधारा चढ़ाया निर्वाण लड्डू
देई. दशलक्षण पर्व के समापन पर रविवार को उतम ब्रह्मचर्य तप दिवस चतुर्दशी एवं बारहवें तीर्थंकर वासुपूज्य भगवान का मोक्ष कल्याण दिवस जैन नसिया मंदिर व बड़ा जैन मंदिर में मनाया गया। नसियां मंदिर में भगवान का मस्तकाभिषेक व शांतिधारा कर निर्वाण लड्डू चढ़ाया। बडा जैन मंदिर में नित्य शांतिधारा अभिषेक व पूजन के आयोजन हुए।
सुधासागर वाटिका का शिलान्यास
चन्द्रप्रभु चौबीसी जिनालय तेरह पंथ अग्रवाल दिगम्बर जैन नसिया मंदिर देई की ओर से कस्बे के पावर हाउस के पास सुधा सागर वाटिका का शिलान्यास किया गया। मंदिर प्रवक्ता दीपक बंसल ने बताया कि पंडित प्रकाशचंद शास्त्री के सानिध्य में शिलान्यास किया। इस अवसर पर अग्रवाल समाज नगर अध्यक्ष ओमप्रकाश गर्ग, नसिया मंदिर अध्यक्ष कैलाश जैन, सम्पत कुमार जैन, ग्यारसीलाल जैन आदि उपस्थित रहे।
हिण्डोली. पर्युषण पर्व के उपलक्ष्य में रविवार को अनंत चतुर्दशी को कस्बे के पाŸवनाथ व सुपाŸवनाथ दिगम्बर जैन मंदिर में कई कार्यक्रम हुए। सुबह श्रीजी का अभिषेक व शांतिधारा की गई। जिसके पुण्यार्जक प्रेमचंद, दिनेश कुमार गोधा रहे। उसके बाद श्रीजी की पूजा की गई। शाम को ग्राम भ्रमण करवाया व अभिषेक किया गया। सन्मति युवा मंच के प्रवक्ता संजय बरमुंडा ने बताया कि पर्युषण पर्व तीन उपवास करने पर निष्ठा गोधा को समाज की ओर से सम्मानित किया गया। सांस्कृतिक कार्यक्रम में बालिकाओं की नाट्य मंचन, नृत्य प्रतियोगिता का आयोजन हुआ।
डाबी. पर्युषण पर्व के दसवें दिन जैन मंदिरों में वासुपूज्य भगवान का मोक्ष कल्याणक मनाया और निर्वाण लाडू अर्पित किया। श्रद्धालुओं ने पूजा-अर्चना कर उत्तम ब्रह्मचर्य धर्म को आत्मसात करने का संकल्प लिया। अनंत चतुर्दशी का उपवास रखा।
दशलक्षण पर्व का हुआ समापन
कापरेन. दशलक्षण पर्युषण पर्व का रविवार को समापन हुआ। दिगम्बर जैन बड़ा मन्दिर, दिगम्बर जैन नसिया मन्दिर, श्रेयांशनाथ चैत्यालय सहित क्षेत्र के रोटेदा स्थित पाŸवनाथ दिगम्बर जैन मंदिर में पूजा-अर्चना की गई। अंतिम दिन उत्तम ब्रह्मचर्य पूजा, सोलहकारण पूजा, णमोकार महामंत्र पूजा, पाŸवनाथ भगवान की पूजा, षट तीर्थंकर पूजा, उत्तम क्षमा, उत्तम मार्दव, उत्तम सत्य, उत्तम संयम, उत्तम तप, उत्तम त्याग, उत्तम आकिंचन, ब्रह्मचर्य धर्म, क्षमावाणी की पूजा गई। श्रीजी की शांतिधारा करवाई गई। नसियाजी मन्दिर पर शाम को 108 दीपों से आरती की गई। बाद में सांस्कृतिक कार्यक्रम हुआ। कार्यक्रम के दौरान बालिका, महिलाओं ने डांडिया नृत्य किया गया। इस दौरान समाज के नरेंद्र सेठिया, अशोक पापड़ीवाल, रमेश नगेदा, बसंत पपड़ीवाल आदि के भाग लिया। कस्बे के संजय कुमार पाटनी दशलक्षण महापर्व में 10 दिनों के निर्जला उपवास कर रहे हैं।

दशलक्षण पर्व का हुआ समापन
करवर. कस्बे में दिगम्बर जैन मंदिर में श्रीजी की पूजा-अर्चना की। श्रीजी की माला की बोली लगाई। समाज की ओर से जैन धर्मशाला से कलश यात्रा शुरू हुइर्, जो दिगंबर जैन मंदिर पहुंची। प्रतियोगिताओं में भाग लेने वाले बच्चों को पुरस्कार वितरित किए।
जमीतपुरा. कस्बे में दिगंबर जैन मंदिर में अनंत चतुर्दशी पर शोभायात्रा निकाली गई। रविवार को सुबह जलाभिषेक, शांतिधारा, देवशास्त्र की पूजा और दशलक्षण धर्म की पूजा की गई। दोपहर 3 बजे भगवान की शोभायात्रा निकाली गई। जिसमें कलशों की बोली लगाई गई। शाम को आरती व भक्तामरजी का पाठ किया गया। इस मौके पर समाज के प्रेमचंद जैन, चंद्रप्रकाश जैन, सुरेंद्र जैन, ओमप्रकाश जैन, नेमीचंद, प्रकाशचंद जैन आदि मौजूद थे।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned