राज्यमंत्री ने जाने तालाबों के हाल, फीडर का किया अवलोकन

खेल राज्यमंत्री अशोक चांदना ने पैदल चलकर गुरुवार को नैनवां के दोनों तालाबों कनकसागर एवं नवलसागर को पुराने स्वरूप में लाने के लिए पानी की आवक के अवरुद्ध पड़े रास्तों, घाट व पाल के जीर्णोद्धार के लिए मौका मुआयना किया।

By: Narendra Agarwal

Updated: 11 Jun 2021, 06:40 PM IST

नैनवां. खेल राज्यमंत्री अशोक चांदना ने पैदल चलकर गुरुवार को नैनवां के दोनों तालाबों कनकसागर एवं नवलसागर को पुराने स्वरूप में लाने के लिए पानी की आवक के अवरुद्ध पड़े रास्तों, घाट व पाल के जीर्णोद्धार के लिए मौका मुआयना किया। इस दौरान सिंचाई, सार्वजनिक निर्माण विभाग, प्रशासनिक अधिकारियों की टीम साथ रही। राज्यमंत्री दोपहर तीन बजे नैनवां पहुंचे। सबसे पहले भावपुरा फीडर को देखा। एनएच 148 डी के निर्माण के समय फीडर का कुछ हिस्सा क्षतिग्रस्त होने से पानी की आवक ठहरी हुई। जल संसाधन विभाग के अधिशासी अभियंता व निर्माण विभाग के अभियंता से चर्चा कर फीडर की आवक को बहाल कराने के निर्देश दिए। यहां से पाण्डुला फीडर में आ रहे अवरोधों को देखने पहुंचे। पाण्डुला फीडर से ही कनकसागर तालाब में सबसे ज्यादा पानी की आवक होती थी। पाण्डुला फीडर में नैैनवां, सुवानिया व भावपुरा गांवों के माळ के बरसाती पानी की आवक होती थी। पाण्डुला फीडर के जगह-जगह अवरूद्ध होने से पानी की आवक बंद है। दोनों ही फीडर से कनकसागर तालाब में पानी की आवक होती है। जल संसाधन विभाग के अभियंताओं से नवलसागर तालाब में पानी की आवक के अवरूद्ध फीडर की स्थिति की जानकारी ली।

राशि स्वीकृत कराएंगे
खेल राज्यमंत्री ने तालाबों का मुआयना करने के बाद बताया कि दोनों तालाबों के हालातों का जायजा लिया है। तालाबों के घाटों व पालों का जीर्णोद्धार कराने के साथ ही पानी की आवक के रास्तों को वापस जीवित किया जाएगा। तालाब कभी सूखे नहीं रहे ऐसी स्थिति में लाने केे लिए पानी की आवक बढ़ाने के साथ दोनों तालाबों का सौन्दर्यीकरण कराया जाएगा। सौन्दर्यीकरण की प्लानिंग तैयार करवाकर उस पर खर्च होने वाली राशि स्वीकृति करवाई जाएगी। अभी नगरपालिका के माध्यम से दोनों तालाबों में बादलिया बाग व द्वारिकाधीश उद्यानों को कार्य चल रहा है। तालाबों के सौन्दर्यींकरण के साथ ही कनकसागर तालाब के दूसरे छोर पर बायपास का निर्माण कराया जाएगा। सडक़ द्वारिकाधाीश को अगढ़ के बालाजी को जोड़ते हुए निकलेगी। जिसको प्लानिंग में शामिल किया।

धरोहरों को भी संवारेंगे
राज्यमंत्री ने कहा कि नैनवां के पुरातत्व धरोहरों पर उनकी आज ही नजर पड़ी है। पुरातत्व धरोहर का भी संरक्षण करवाया जाएगा। पुरातत्व विभाग की टीम भेजकर सर्वे करवाया जाएगा। पुरातत्व महत्व के नैनवां के महल, तालाब की पाल में बनी छतरियों, परकोटों, परकोटों के सहारे बनी तालाबों को जोडऩे वाली ड्रेनेज, कस्बे के चारों पोलों गढ़पोल, टोडापोल, खानपोल, देईपोल के रियासतकालीन दरवाजों, अन्य पुरातत्व महत्व की बावडिय़ों व भवनों का भी जीर्णोद्धार कराया जाएगा।

घाट व कुएं देखे
इसके बाद राज्यमंत्री ने कनकसागर तालाब के अन्दर पैदल ही घूमकर तालाब की स्थिति व क्षतिग्रस्त घाटों व कुओं की स्थिति देखी। मौके पर ही नगरपालिका के कनिष्ठ अभियंता को घाटों के जीर्णोद्धार के साथ नए घाटों व सुरक्षा दीवार निर्माण के प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए। उसके बाद नवलसागर तालाब पर पहुंचे और वहां पर भी पाल व घाटों का मुआयना किया। नवलसागर की पाल पर वॉकिंग ट्रेक के साथ सौन्दर्यींकरण के प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए। पालिका उपाध्यक्ष आबिद हुसैन, पार्षद राजेश गुर्जर, सुरेश मोडिका, कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष ओमप्रकाश जैन, शहर कांग्रेस अध्यक्ष भारतभूषण गौतम सहित पालिका के पार्षद भी साथ रहे। अधिकारियों में उपखंड अधिकारी श्योराम, पुलिस उपाधीक्षक कैलाशचंद जाट, तहसीलदार अमितेश मीणा, नगरपालिका अधिशासी अधिकारी महिमा डांगी, जल संसाधन विभाग, जलदाय विभाग, निर्माण विभाग के अधिकारी साथ रहे।

Narendra Agarwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned