पानी नहीं मिलने से किसान निराश

बाजड़ नहर में पानी नहीं छोडऩे से किसानों की चिंता बढ़ती जा रही है, जबकि अन्य नहरों में पानी छोड़ दिया गया है। इस सौतेले व्यवहार से एक दर्जन गांव के किसान आक्रोशित होकर आंदोलन की तैयारी में जुट गए हैं।

By: pankaj joshi

Published: 19 Sep 2020, 06:42 PM IST

पानी नहीं मिलने से किसान निराश
तालेड़ा. बाजड़ नहर में पानी नहीं छोडऩे से किसानों की चिंता बढ़ती जा रही है, जबकि अन्य नहरों में पानी छोड़ दिया गया है। इस सौतेले व्यवहार से एक दर्जन गांव के किसान आक्रोशित होकर आंदोलन की तैयारी में जुट गए हैं। किसानों ने बताया कि बाजड डिस्ट्रीब्यूटर की नहर में पानी नहीं छोडऩे से हजारों बीघा की फसलें सूखने लगी है। फसलें अंतिम चरण में पक कर तैयार है। यदि उनको जल्दी पानी नहीं मिला तो किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ेगा। बाजड जल उपयोगिता संगम के अध्यक्ष पृथ्वीराज चौधरी, उच्छब लाल चौधरी, मुकेश चौधरी, गणेश धाकड़ व डालचंद गुर्जर सहित कई किसानों ने बताया कि आसपास के सभी नहरों में पानी की आपूर्ति शुरू कर दी गई है। लेकिन बाजाड़ डिस्ट्रीब्यूटर क्षेत्र की नहर में पानी नहीं छोड़ा गया किसानों में फसलें सूखने के कगार पर हो चुकी हैं।
नहरो में उगे हैं झाड़ झंखाड़
बाजड डिस्ट्रीब्यूटर की नहर की साफ सफाई नहीं होने से झाड़ झंखाड़ उगे हैं। इससे किसानों को नहर का पानी भी पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल पा रहा है। सिंचाई विभाग के अधिकारियों की अनदेखी के चलते किसानों को इसका खामियाजा उठाना पड़ रहा है। क्षेत्र के एक दर्जन गांवों में करीब 30 हजार का रकबा की फसले सूखने लगी हैं। इसमें विनायक, डेलून्दा, डग़लावदा, बाजड, टिकरिया कला, बडुन्दा, लाडपुर, अन्थड़ा, साथेली, ऐबरा सहित जुवासा कई गांवों के किसान फसलो की सिंचाई के लिए तरस रहे हैं।
बाजड़ नहर की मरम्मत को लेकर देरी से पानी छोड़ा गया है। कुछ समय मे नहर में पानी छोड़ा गया है। किसानों को पहुंचाया जा रहा है। नीरज कुमार, सहायक अभियंता, सिचाई विभाग तालेड़ा

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned