‘अच्छी गश्त व नाकाबंदी से लगाओ अपराधों पर अंकुश’

pankaj joshi | Updated: 06 Oct 2019, 12:13:46 PM (IST) Bundi, Bundi, Rajasthan, India

बेहतर पुलिसिंग के लिए आपस में सामंजस्य बनना बेहद जरुरी है, तभी अपराधों में अंकुश लग सकेगा।

जिले के थानाधिकारियों को बेहतर पुलिसिंग की दी नसीहत
बूंदी. बेहतर पुलिसिंग के लिए आपस में सामंजस्य बनना बेहद जरुरी है, तभी अपराधों में अंकुश लग सकेगा। जितनी अच्छी गश्त करेंगे, जितना लोगों से मिलेंगे, जितना पुलिस का व्यवहार बेहतर होगा उतनी बेहतर पुलिसिंग हो सकेगी। सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत में यह बात कोटा रेंज के डीआइजी रविदत्त गौड़ ने कही। डीआइजी गौड़ शनिवार को बूंदी आए। यहां पुलिस अधीक्षक कार्यालय में अधिकारियों की क्राइम मीटिंग ली। इस दौरान पुलिस अधीक्षक ममता गुप्ता, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सतनाम सिंह सहित जिले के आला अधिकारी मौजूद रहे।
पत्रकारों से बातचीत में डीआइजी गौड़ ने कहा कि पुलिस की निगाह व निगरानी में माफिया, हार्डकोर्ड अपराधी, हिस्ट्रीशीटर व असामाजिक तत्व रहता है, जो हमेशा माहौल बिगाडऩे के फिराक में रहता है। उन्होंने कहा कि अच्छी गश्त व अच्छी नाकाबंदी से अपराधों पर लगाम लग सकती है। पुलिस जितना इन घटनाओं को रोकेगी क्राइम उतना ही कम होगा। इससे गंभीर अपराधों पर भी रोक लगेगी।
डीआइजी ने जिले के सभी थानाधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्र में हाई-वे पेट्रोलिंग, समय-समय पर नाकाबंदी करने की बात कही। साथ ही एनडीपीएस, आम्र्स एक्ट, शराब तस्करी व मारपीट की घटनाओं पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए। एक सवाल के जवाब में डीआइजी ने कहा कि क्राइम को रोकने के लिए जागरूकता के क्या प्रयास किए जाए, पुलिस उस दिशा में काम कर रही है।
साइबर क्राइम बना एक चुनौती
पत्रकारों से बातचीत में डीआइजी ने माना की साइबर क्राइम की घटनाएं बढ़ रही है। जिसके लिए थानों में अलग से सेल भी बना हुआ है। इसके लिए जरूरत है एक्सपर्ट की जो इस दिशा में कार्य कर सके।
साइबर क्राइम की घटनाओं के लिए सीएलजी सदस्यों, शहर के जानकारों का एक पुलिस गु्रप बनाए, जिससे ऐसी घटनाओं पर अंकुश लग सके। सोशल मीडिया भी अपराध का जड़ बन गया।
इसका उपयोग अच्छे कार्यों के लिए हो ऐसा प्रयास किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसको लेकर समय-समय पर सेमीनार आयोजित किए जाएंगे। साथ ही इस लाइन में जिस किसी अफसर की रुचि होगी उनको प्रशिक्षित भी किया जाएगा।
जिले के हालातों के बारे में जाना
डीआइजी रविदत्त गौड़ ने एसपी ऑफिस में जिलेभर के थानाधिकारियों व पुलिस उपअधीक्षक की काइम मीटिंग ली। जिसमें डीआइजी ने थानाधिकारियों से उनके क्षेत्र के हालातों के बारे में जाना। साथ ही अपराधों की रोकथाम को लेकर दिशा-निर्देश दिए।
सौंपे दस्तावेज
सर्किट हाउस में डीआइजी गौड़ को नगर परिषद के नेता पतिपक्ष लोकेश ठाकुर व पार्षद मुकेश माधवानी ने सभापति महावीर मोदी के खिलाफ पुलिस में दर्ज मामलों के दस्तावेज सौंपे और कार्रवाई की मांग की। पार्षद ने डीआइजी को स्वायत शासन विभाग के निदेशक जयपुर, उपनिदेशक कोटा सहित तत्कालीन प्रशासनिक अधिकारियों की ओर से की गई जांचों के दस्तावेज भी सौंपे। डीआइजी ने सम्पूर्ण प्रकरण में जल्द कार्रवाई का भरोसा दिया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned