जिला प्रभारी मंत्री परसादी लाल मीणा ने की जनसुनवाई

हिण्डोली के पंचायत समिति सभागार में शुक्रवार को जिले के प्रभारी मंत्री परसादी लाल मीणा ने जन सुनवाई के दौरान अफ्सरों के बेवजह लोगों के काम अटकाए रखने को गंभीर माना। उन्होंने अधिकारियों को त्वरित कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

By: Narendra Agarwal

Published: 03 Apr 2021, 05:25 PM IST

अधिकारियों को दिए त्वरित कार्रवाई करने के निर्देश
हिण्डोली. हिण्डोली के पंचायत समिति सभागार में शुक्रवार को जिले के प्रभारी मंत्री परसादी लाल मीणा ने जन सुनवाई के दौरान अफ्सरों के बेवजह लोगों के काम अटकाए रखने को गंभीर माना। उन्होंने अधिकारियों को त्वरित कार्रवाई करने के निर्देश दिए।
हिण्डोली कस्बे की छात्राएं जिला प्रभारी मंत्री से मिली और बताया कि उन्हें तीन साल से नेशनल मींस कम मेरिट छात्रवृत्ति नहीं मिल रही। छात्रा निकिता सैनी एवं दीक्षा गोचर ने बताया कि वर्ष 2017 में नेशनल मींस कम मेरिट छात्रवृत्ति योजना के तहत आवेदन भरा था, लेकिन विभाग की गलती के कारण उन्हें अभी तक छात्रवृत्ति नहीं मिली। इस पर जिला शिक्षा अधिकारी को तलब किया, लेकिन प्रभारी मंत्री की जनसुनवाई शुरू होने तक जिला शिक्षा अधिकारी ही नहीं पहुंचे। तब सीबीइओ को बुलाकर सात दिन में छात्राओं के मामले का निस्तारण करने के निर्देश दिए। बाद में जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक पहुंची, लेकिन प्रभारी मंत्री को इस मामले में कोई संतुष्टिपूर्ण जवाब नहीं दिया। प्रभारी मंत्री से जिले के विद्यार्थी मित्र पंचायत सहायक भी मिले और नियमित करने की मांग की।
जन सुनवाई के दौरान उप जिला प्रमुख बंसीलाल मीणा, प्रधान कृष्णा माहेश्वरी, संभागीय आयुक्त के.सी. मीणा, जिला कलक्टर आशीष गुप्ता, पुलिस अधीक्षक शिवराज मीणा, एडीएम प्रशासन एयू खान, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मुरलीधर प्रतिहार, हिण्डोली उपखंड अधिकारी मुकेश चौधरी, हिण्डोली तहसीलदार केसरी सिंह, ब्लॉक कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष दिनेश शर्मा, उपाध्यक्ष हनुमान व्यास, ग्यारसी लाल गुर्जर आदि मौजूद थे।

फफक पड़ी मां, आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग
प्रभारी मंत्री के समक्ष बूंदी से आई एक महिला निजी विद्यालय संचालक के खिलाफ उसकी बेटी के साथ हुई मारपीट एवं छेड़छाड़ की घटना बताते हुए फफक पड़ी। उसने बताया कि तीन माह पहले पुलिस ने प्रकरण दर्ज किया था, लेकिन अभी तक आरोपियों पर ठोस कार्रवाई नहीं हुई। इस पर प्रभारी मंत्री ने पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिए।

जनता जल योजना के कनेक्शन नहीं काटे, जो काटे गए उन्हें आज ही जोड़ें
कांग्रेस नेता महेश सोमानी की अगुवाई में सथूर के ग्रामीणों ने विद्युत निगम के जनता जल योजना का विद्युत कनेक्शन काटने की बात रखी। प्रभारी मंत्री को बताया कि बिजली का बकाया बताते हुए निगम ने कनेक्शन काट दिया, इससे कस्बे में जल संकट खड़ा हो गया। प्रभारी मंत्री मीणा ने विद्युत निगम के अधीक्षण अभियंता को निर्देश दिए कि जिले में जहां-जहां जनता जल योजना के कनेक्शन काटे गए, उन्हें आज ही जोड़े, जलापूर्ति सुचारू कराएं। फिर से कनेक्शन काटने की शिकायत नहीं मिले। प्रभारी मंत्री ने इस मामले में जिला कलक्टर को मॉनिटरिंग के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि लोगों को पानी पिलाना हमारी जिम्मेदारी है।

सा’ब 2 माह बाद के दे दिए टोकन
प्रभारी मंत्री के सामने सरकारी खरीद में शुरुआत से ही समस्याओं का अंबार लगा देने के कई मामले सामने आए। उन्होंने बताया कि किसानों को खरीद के दो माह बाद की तिथि के टोकन दे दिए। ऐसे में उपज को बेचना ही मुश्किल हो गया। कई किसानों को टोकन नहीं मिले। बिना ओटीपी पंजीयन हो गया। इस पर प्रभारी मंत्री ने संभागीय आयुक्त केसी मीणा को आवश्यक निर्देश दिए।

मंदिर की भूमि पर किया कब्जा हमसे नहीं ले रहे सहयोग
क्षेत्र के माठों का बरड़ा के ग्रामीणों ने समाज विशेष पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें मंदिर की सेवा पूजा से बेदखल कर गाली गलौज की गई एवं मंदिर निर्माण में आर्थिक सहयोग लेने से भी मना कर दिया। उन्होंने मंत्री को बताया कि माठों का बरड़ा के पास देवनारायण भगवान का मंदिर बना हुआ था। जिसे समाज विशेष के लोगों ने तोड़ दिया एवं करीब 70 बीघा सिवायचक भूमि पर कब्जा कर वहां लगे पेड़-पौधों को काट दिया। मीणा समाज ने भी ज्ञापन सौंपा।

Narendra Agarwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned