सडक़ें बदहाल, अब कोई ना पूछे हाल

शहर की सडक़ों के हाल ठीक नहीं रहे। अनगिनत गड्ढे तो कई जगह से डामर पूरा उखड़ चुका। सडक़ों के किनारे कट गए। ऐसे में राहगीरों व वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा।

By: pankaj joshi

Updated: 21 Sep 2020, 07:12 PM IST

सडक़ें बदहाल, अब कोई ना पूछे हाल
बूंदी. शहर की सडक़ों के हाल ठीक नहीं रहे। अनगिनत गड्ढे तो कई जगह से डामर पूरा उखड़ चुका। सडक़ों के किनारे कट गए। ऐसे में राहगीरों व वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा। परकोटे के भीतरी शहर में तो कई मुख्य सडक़ों की मरम्मत नहीं कराने को लेकर लोगों में रोष व्याप्त हो गया। पिछले दिनों आई बारिश के बाद तो सडक़ों के हाल और बुरे हो गए। महज शहर के तीन किलोमीटर के दायरे में कई मार्ग क्षतिग्रस्त हो गए। जगह-जगह हुए गड्ढों में अब वाहन चालक गिरकर चोटिल हो रहे। ऊबड़- खाबड़ हो चुकी सडक़ों पर वाहन चालक गिरकर चोटिल हो रहे। डामर उखडऩे के बाद गिट्टी निकल आई। शहर के खोजागेट रोड, इंद्रा मार्केट, नागदी बाजार, सदर बाजार, कागजी देवरा, मीरा गेट, माटूंदा रोड, लंकागेट सहित अन्य स्थानों पर सडक़ों के हाल बेहाल हो गए। इसमें सबसे ज्यादा हालात नागदी बाजार की सडक़ के हुए।
कहां-कहां जर्जर सडक़
इंद्रा मार्केट में पेचवर्क हुआ था, लेकिन कुछ समय बाद ही बारिश में उखड़ गया। या यूं कहें कि पेच वर्क का काम थोड़ी सी बारिश को नहीं झेल पाया। अब जगह-जगह से सडक़ खस्ताहाल हो गई। डामर उखडऩे के बाद वाहनों के साथ यहां अब कंकर उछट रहे।
सिर्फ भरोसा दे रहे
परकोटे के भीतर मुख्य मार्ग सदर बाजार का है। यह मार्ग बालचंद पाड़ा को जोड़ता है। इस सडक़ को ठीक करने के लिए क्षेत्र के बाशिंदे कई बार मांग उठा चुके। स्थानीय निकाय के अधिकारियों ने भरोसा भी दिया, लेकिन अब तक सडक़ का काम शुरू नहीं हुआ। यहां सडक़ से डामर उखड़ चुका। कोविड में पर्यटकों की आवाजाही थम गई, पहले पर्यटक भी इसी मार्ग से होकर आ जा रहे थे। यहां के बाशिंदे भंवर सिंह ने बताया कि सडक़ को लेकर ठोस योजना बने।
बच्चे और बुजुर्ग हो रहे चोटिल
नागदी बाजार की सडक़ तो मानो चलने लायक ही नहीं बची। इस बार अधिक बारिश नहीं होने से यहां हादसे नहीं हुए। यहां के बाशिंदों की माने तो सडक़ के ऐसे हाल पहले कभी नहीं हुए। बच्चे और बुजुर्ग कई बार गिरकर चोटिल हो चुके। यही हाल यहां मीरागेट रोड के हो गए।
सीवरेज लाइन बिछाई वहां धंसी सडक़
शहर में सर्वाधिक सडक़ों की दशा सीवरेज लाइन ने बिगाड़ी। ठेकेदार ने मनमर्जी से लाइन बिछा दी। कुछ स्थानों पर सडक़ों की मरम्मत की, लेकिन कुछ ही दिनों में धंसने लग गई। इसे कोई जिम्मेदार अधिकारी नहीं देख रहा। लाइन बिछाने के लिए कई जगहों पर सडक़ों को बेतरतीब तरीके से तोड़ दिया।
पैसा तो अभी बिल्कुल भी नहीं है। कुछ पुराना प्रोजेक्ट चल रहा है। इंद्रा मार्केट व कुछ जगहों की सडक़ों का तो पेचवर्क कराया जा रहा है। नए प्रोजेक्ट को लेकर फिलहाल कुछ भी नहीं है। नगर परिषद की आर्थिक स्थिति खराब है। फिर भी जहां जरूरत होगी वहां पेचवर्क कराया जाएगा।
महावीर सिंह सिसोदिया, आयुक्त, नगर परिषद, बूंदी

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned