बिगड़ता प्राकृतिक संतुलन मानव जीवन पर संकट

भारत स्काउट गाइड की ओर से विश्व स्काउट दिवस गाइड चिंतन दिवस कार्यक्रमों की शृंखला में तीन दिवसीय प्रकृति अध्ययन शिविर शनिवार को पेच ग्राउंड स्थित स्काउट गाइड मुख्यालय पर शुरू हुआ।

By: Narendra Agarwal

Published: 21 Feb 2021, 06:02 PM IST

बूंदी. भारत स्काउट गाइड की ओर से विश्व स्काउट दिवस गाइड चिंतन दिवस कार्यक्रमों की शृंखला में तीन दिवसीय प्रकृति अध्ययन शिविर शनिवार को पेच ग्राउंड स्थित स्काउट गाइड मुख्यालय पर शुरू हुआ। शिविर में संभागियों ने सैद्धान्तिक व प्रायोगिक सत्रों में प्रकृति संरक्षण के विभिन्न पहलुओं को जाना।
शिविर का उद्घाटन मुख्य अतिथि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव विनोद कुमार वाजा ने किया। इस अवसर पर सहायक लीडर ट्रेनर कोटा ललित शर्मा, असिस्टेंट प्रोफेसर रोवर लीडर विकास शर्मा, भारतेंदु गौतम, सहसचिव सर्वेश तिवारी व सीओ स्काउट गिरिराज गर्ग मुख्य वक्ता थे। मुख्य अतिथि वाजा ने बिगड़ते पर्यावरण संतुलन पर चिंता प्रकट की। उन्होंने कहा कि प्रकृति के बिना मानव जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती। बढ़ता हुआ प्रदूषण व बिगड़ता प्राकृतिक संतुलन मानव जीवन के लिए ही नहीं अपितु प्राणियों के अस्तित्व पर संकट हो गया। समय रहते पर्यावरण के प्रति संवेदनशील होकर इसका संरक्षण किया जाना चाहिए।
शिविर के प्रायोगिक सत्र में संभागी स्काउट-गाइड, रोवर-रेंजर्स को जनचेतना अभियान का प्रशिक्षण देते हुए पेच ग्राउंड से जैतसागर तक जनचेतना रैली निकाली गई। रैली को मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी एवं जिला कमिश्नर योगेश चंद्र शर्मा ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। स्काउट परंपरा अनुसार प्रकृति अध्ययन शिविर ध्वजारोहण व प्रार्थना के साथ शुरू किया। ट्रेनिंग काउंसलर हेमराज ओड़ ने आभार प्रकट किया।

Narendra Agarwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned