श्रीजी के हुए कलशाभिषेक, निकाली शोभायात्रा

अनंत चतुर्दशी पर जैन समाज के दशलक्षण पर्युषण पर्व के अंतिम दिन धार्मिक कार्यक्रम हुए। इस मौके पर जिलेभर में आयोजन हुए।

By: pankaj joshi

Published: 20 Sep 2021, 07:11 PM IST

श्रीजी के हुए कलशाभिषेक, निकाली शोभायात्रा
दशलक्षण पर्युषण पर्व के तहत अनंत चतुर्दशी पर हुए विविध आयोजन
बूंदी. अनंत चतुर्दशी पर जैन समाज के दशलक्षण पर्युषण पर्व के अंतिम दिन धार्मिक कार्यक्रम हुए। इस मौके पर जिलेभर में आयोजन हुए। शहर के सभी मंदिरों में कलाभिषेक हुए व माल की बोली लगाई गई। गाजे-गाजे के साथ श्रीजी का जुलूस निकाला गया। भक्ति भाव के साथ भजनों पर नृत्य किए। यहां बूंदी शहर में भी देवपुरा जैन समाज की ओर से जुलूस निकाला गया। समाज के युवा आगे ध्वज लेकर चल रहे थे। सुबह नित्य नियम की पूजा-अर्चना हुई। शांतिधारा देवेंद, महेंद्र, शेलेंद्र, गजेंद्र, प्रशम हरसोरा कचनारिया वालों को प्राप्त हुआ। जिसके बाद संगीतमय पूजन हुई। जिसमें सीमा कोटिया, आयुष कोटिया और खुशी टोंग्या के स्वर लहरियों में लोग झूम उठे। दोपहर को श्री जी की शोभायात्रा निकाली, जो प्रमुख मार्गों से होती हुई देवपुरा जैन मंदिर पहुंची। जहां पर श्रीजी की शांतिधारा और अभिषेक हुए। शाम को भक्तामर स्त्रोत व महाआरती हुई। उसके बाद शास्त्र सभा और दस दिन उपवास व व्रत करने वाले पंडित का सम्मान हुआ। संचालन ओम ठग ने किया। वासुपुज्य भगवान का निर्वाण लाडू चढ़ाने का सौभाग्य कैलाश, ओमप्रकाश, ललित, अंकुर, आयुष ठग को प्राप्त हुआ।
श्रीजी का निकाला जुलूस
बड़ानयागांव. कस्बे में स्थित शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर पर रविवार को दशलक्षण पर्व के अंतिम दिवस उत्तम ब्रह्मचर्य धर्म, अनंत चतुर्दशी व जैन धर्म के 12वें तीर्थंकार भगवान वासुपूज्य का मोक्ष कल्याणक जैन समाज की ओर से मनाया गया। मंदिर पर सुबह शांतिधारा कलश विधान के साथ पूजा की गई। दीपक जैन ने बताया कि स्कूल परिसर से मंदिर तक श्रीजी का पालकी में विराजमान कर जुलूस निकाला गया। जुलूस में समाज की महिलाएं मंगल कलश के साथ नृत्य करते हुए चल रही थी। इस दौरान योगेश कुमार जैन, सुनील जैन, जिनेंद्र जैन, विमल चंद जैन, रानू जैन, रेखा जैन आदि मौजूद रहे।
जिनालयों में हुए कई कार्यक्र म
केशवरायपाटन. मायजा गांव स्थित श्रीअरहनाथ दिगम्बर जैन मंदिर में रविवार को पर्युषण पर्व के तहत उत्तम ब्रह्मचार्य धर्म की पूजा की गई। जैन श्रावकों ने प्रात:काल शांतिधारा, अभिषेक एवं नित्य नियम पूजन किया। इस अवसर पर समाज के अध्यक्ष सुरेश जैन, त्रिलोक चन्द्र जैन, अमृत जैन, लेखराज जैन, भागचन्द जैन, मनोज जैन उपस्थित थे। वहीं महावीर दिगम्बर जैन मंदिर में उत्तम ब्रह्मचर्य के उपलक्ष्य में श्रीमहावीर स्वामी का अभिषेक, सामूहिक शांतिधारा, सम्मेद शिखर पूजा, दशलक्षण मंडल विधान समापन की पूजा की गई। दोपहर को दशलक्षण की जाप माला व मंगल कलश के साथ शोभायात्रा निकाली गई। महावीर भगवान की आरती हुई। इसके बाद जिनवाणी सजाओ और आरती की थाली सजाओ प्रतियोगिता हुई। कार्यक्रम में जयकुमार जैन, तरूण जैन, राजू सेठिया, विनोद जैन, विमल चन्द्र सेठिया, रोशन सेठिया मौजूद रहे।
जैन समाज ने निकाली पालकी
जैन धर्म के पर्युषण पर्व पर के समापन पर समाज के लोगों ने श्रीजी की रविवार को पालकी निकाली गई। जितेंद्र जैन ने बताया कि पर्युषण पर्व के समापन के अवसर पर श्रीजी की पालकी कस्बे के मुख्य बाजार से जयकारों के साथ निकाली गई। इस दौरान समाज के प्रबुद्धजन ने लोगों को अहिंसा का संदेश दिया है।
श्रीजी का कलश माल हुआ
लाखेरी. अनंत चतुर्दशी रविवार को कस्बे के पदमप्रभु जिन चैत्यालय, दिगंबर जैन बड़ा मंदिर, छोटा मंदिर में नित्य अभिषेक शांतिधारा हुए। बाद में लोगों ने दशलक्षण पर्व के 10वें धर्म उत्तम धर्म की पूजा कर वासपूज्य भगवान को निर्वाण लाडू चढ़ाया। सायं 4 बजे दिगबंर जैन बड़े मंदिर में जुलूस निकाला व नसियां पर पूजा कर मंदिर में श्रीजी का कलशमाल कर माला की बोली लगाई गई। इसी प्रकार अन्य मंदिरों में भी श्रीजी का कलशमाल कर माला की बोली लगाई गई।
खटकड़. पर्युषण महापर्व के तहत रविवार को दसवें दिन उत्तम ब्रह्मचर्य धर्म की पूजा, रत्नत्रय पूजा, नव देवता पूजा, दशलक्षण पूजा आदि पूजा की गई। इससे पूर्व सुबह शांतिनाथ भगवान का कलशाभिषेक व शांतिधारा की गई। शाम को माला की बोलियां लगाकर महाआरती की गई।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned