समर्थन मूल्य खरीद केन्द्रों पर 20 हजार क्विंटल की वृद्धि

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के निर्देशों पर भारतीय खाद्य निगम ने बूंदी जिले में अपने न्यूनतम समर्थन मूल्य के खरीद केंद्रों की क्षमता में इजाफा कर दिया। बूंदी में अब प्रतिदिन 80000 क्विंटल गेहूं की तुलाई होगी।

By: pankaj joshi

Published: 29 May 2020, 07:03 PM IST

समर्थन मूल्य खरीद केन्द्रों पर 20 हजार क्विंटल की वृद्धि
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के निर्देशों पर बढ़ाई क्षमता, ओएसडी दत्ता ने देखी व्यवस्थाएं
बूंदी. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के निर्देशों पर भारतीय खाद्य निगम ने बूंदी जिले में अपने न्यूनतम समर्थन मूल्य के खरीद केंद्रों की क्षमता में इजाफा कर दिया। बूंदी में अब प्रतिदिन 80000 क्विंटल गेहूं की तुलाई होगी। इधर, लोकसभा अध्यक्ष के ओएसडी राजीव दत्ता भारतीय खाद्य निगम के मंडल प्रबंधक धर्मसिंह मीणा एवं अन्य अधिकारियों के साथ गुरुवार को बूंदी पहुंचे। यहां पुरानी मंडी में चल रहे खरीद केंद्र पर व्यवस्थाओं का जायजा लिया।
कोटा-बूंदी लोकसभा क्षेत्र में गेहूं तुलाई को लेकर आ रही परेशानियों की शिकायत मिलने के बाद लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने मंगलवार को नई दिल्ली में भारतीय खाद्य निगम के अधिकारियों के साथ बैठक की थी। बिरला ने अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए कि किसान जितना गेहूं लेकर पहुंचे उसकी तुलाई सुनिश्चित करें। इसके अलावा कांटों पर गेहंू के उठाव, बारदाने की उपलब्धता की समस्याओं को दूर किया जाए। बिरला के निर्देशों का असर 24 घंटे के भीतर दिखाई दिया। बूंदी जिले के सभी खरीद केन्द्र पर गुरुवार को क्षमता का इजाफा किया गया, जिसके बाद यहां अब प्रतिदिन 20000 क्विंटल गेहूं अधिक तोला जा सकेगा। बूंदी जिले में अब 60000 क्विंटल की जगह 80000 क्विंटल की तुलाई होगी। खरीद केन्द्रों पर पहुंचे ओएसडी दत्ता ने कहा कि लोकसभा अध्यक्ष का प्रयास है कि किसानों को अधितम गेहूं खरीदा जाए, इसके लिए वह लगातार उच्च अधिकारियों के सम्पर्क में हैं। दत्ता ने कहा कि वर्तमान में सभी केन्द्रों पर खरीद सीमा बढ़ाने के साथ ही हमारा प्रयास है कि अगले तीन दिन के जारी टोकन कि खरीद एक ही दिन में पूरी की जाए। जिससे शेष किसानों को टोकन जारी करने के साथ ही उनका भी गेहूं न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदा जा सके।
गेहूं उठाव के लिए लगेगी विशेष रैक
बूंदी आए ओएसडी दत्ता को किसानों ने माल समय पर नहीं उठने से खरीद प्रक्रिया प्रभावित होने की जानकारी देते हुए समाधान का आग्रह किया। इस ओएसडी दत्ता ने गेहंू उठाव की समस्या को देखते हुए दिल्ली में उच्चाधिकारियों से बात कर कोटा में प्रतिदिन विशेष रैक लगाने को कहा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि बूंदी के खरीद केन्द्रों से गेहंू कोटा भेजें ताकि स्पेशल रैक के माध्यम से लदान हो सके। केन्द्रों पर गेहंू के उठाव के लिए बिहार के श्रमिकों की ओर से कार्य किया जाता है, लेकिन श्रमिकों की कमी से उठाव तेजी से नहीं हो पा रहा। ओएसडी दत्ता ने नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि संवेदक फर्म के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करें, लेकिन गेहंू उठाव को लेकर किसानों को परेशानी नहीं होनी चाहिए। उन्होंने किसानों से भी संयम बनाए रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि लोकसभा अध्यक्ष किसानों की एक-एक समस्या का निराकरण कर रहे हैं। किसानों की लाई गई उपज का एक-एक दाना खरीदा जाएगा। वह सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करें।
हर हाल में किसानों का माल तोलने के निर्देश
कापरेन. लोकसभा अध्यक्ष के ओएसडी राजीव दत्ता गुरुवार शाम को कापरेन पहुंचे। यहां खरीद केंद्रों का जायजा लिया। मंडी परिसर में पड़े गेहंू कट्टों को देख ओएसडी दत्ता ने नाराजगी जाहिर की और गेहंू की तुलाई व खरीद बढ़ाने के निर्देश दिए। बाद में किसानों की शिकायत पर मंडी में संचालित राजफेड के चना, सरसों खरीद केंद्र पर पहुंचे, जहां चने व सरसों की खरीद बढ़ाने, गुणवत्ता और तुलाई को लेकर किसानों को परेशान नहीं करने के निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राजपाल शर्मा, भाजपा के अंबरीश गौड़ ने उन्हें किसानों की समस्याएं बताई।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned