शराब ठेके की बंधी लेते आबकारी विभाग का गार्ड व निरीक्षक गिरफ्तार

बूंदी एसीबी टीम ने शुक्रवार को आबकारी विभाग के गार्ड एवं आबकारी निरीक्षक को बंधी के नाम पर 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिए।

By: pankaj joshi

Published: 21 Nov 2020, 05:23 PM IST

शराब ठेके की बंधी लेते आबकारी विभाग का गार्ड व निरीक्षक गिरफ्तार
बूंदी एसीबी टीम ने की कार्रवाई : 1 लाख 10 हजार रुपए पहले ही वसूल चुके थे
शराब की दुकान और अवैध ठेका संचालित करने की एवज में ले रहे थे मासिक बंधी
बूंदी. बूंदी एसीबी टीम ने शुक्रवार को आबकारी विभाग के गार्ड एवं आबकारी निरीक्षक को बंधी के नाम पर 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिए।
प्राप्त जानकारी के अनुसार सुवासा निवासी हरिराज सिंह ने बूंदी एसीबी को शिकायत दी थी कि उसकी जयस्थल-बलकासा, बालोद व हिंगोनिया में शराब की कम्पोजिट तीन दुकानें संचालित करने एवं पास के गांव में शराब की अवैध दुकान की एवज में केशवरायपाटन वृत्त के आबकारी निरीक्षक व गार्ड ने 15 हजार रुपए की मंथली की मांग रखी।
तीनों दुकानों की मंथली के तौर पर आबकारी निरीक्षक शिवप्रताप सिंह राणा ने परिवादी से पन्द्रह हजार रुपए मासिक दर के हिसाब से सात माह के 1 लाख 10 हजार रुपए लिए। इसमें प्रथम माह की ली गई किस्त 20 हजार रुपए में से परिवादी के 5 हजार रुपए अग्रिम बच रहे थे। शुक्रवार को शेष 10 हजार रुपए आबकारी निरीक्षक के कहे अनुसार गार्ड रामनिवास जाट ने केशवरायपाटन रोड पर परिवादी से पेंट की जेब में रखवाए। तभी एसीबी टीम ने मौके पर पहुंचकर गार्ड को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। बाद में गार्ड की मदद से आबकारी निरीक्षक राणा को पकड़ा। बूंदी ब्यूरो के उपअधीक्षक तरुणकांत सोमाणी ने बताया कि दोनों आरोपियों को पकडऩे के लिए जाल बिछाया और तीन टीमें बनाई।
नाकाबंदी कर आरोपी आबकारी निरीक्षक राणा को पकड़ा। उसकेपास से रिश्वत की राशि बरामद की। टीम में मुख्य आरक्षक शिवनारायण सोनी, कांस्टेबल नवीन कुमार, जितेन्द्र सिंह, रामसिंह, चंद्रेश, वीरेन्द्र सिंह, हेमेन्द्रा शामिल थे।
फोन करते ही कोटा से बूंदी आ गया
रिश्वत की राशि लेने के बाद गार्ड ने आबकारी निरीक्षक को फोन पर सूचना दी। तब उसने कोटा होने की जानकारी दी। जब गार्ड ने बताया कि बंधी की रकम मिल गई तो उसने बूंदी पहुंचने की बात कही। इसी अनुसार बूंदी एसीबी टीम ने नाकाबंदी की। आबकारी निरीक्षक रेलवे पुलिया के नीचे पहुंचा, जहां से उसे कार सहित राउंडअप किया।
बेखौफ थे रिश्वतखोर
मंथली की उगाही में लगे कोटा जंक्शन माला फाटक निवासी 46 वर्षीय आबकारी निरीक्षक शिवप्रताप सिंह राणा व टोंक जिले के टोडारायसिंह थाना क्षेत्र के गेणती गांव निवासी गार्ड 48 वर्षीय रामनिवास जाट बेखौफ थे। दोनों मंथली को लेकर फोन पर यों बात कर रहे थे जैसे आबकारी विभाग ने वसूली को धंधा बना लिया हो।
फ्लैश बैक
थानाधिकारी-डिप्टी भी बंधी लेते पकड़े थे
इससे पहले एसीबी टीम ने देईखेड़ा थानाधिकारी मुकेशी मीणा को भी मंथली लेते रंगे हाथों पकड़ा था। मुकेशी ने थानाधिकारी बनते ही बजरी निकालने वालों से बंधी तय कर ली थी। इसी का दबाव बनाने के दौरान उसे एसीबी ने रंगे हाथों पकड़ा। इससे पहले लाखेरी के पुलिस उपअधीक्षक भी शराब ठेके की बंधी लेते पकड़े गए थे।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned