ऑक्सीजन की बढ़ती जरूरत को देखते हुए बूंदी भारतीय जैन संघटना आया आगे

कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण के बीच ऑक्सीजन की कमी एक बड़ी गंभीर समस्या बन गई।

By: pankaj joshi

Published: 02 May 2021, 09:54 PM IST

ऑक्सीजन की बढ़ती जरूरत को देखते हुए बूंदी भारतीय जैन संघटना आया आगे
अब इलेक्ट्रॉनिक ऑक्सीजन कांस्ट्रेटर मशीन से मिलेगी मरीजों को सांसें
‘मिशन राहत’ के तहत बूंदी संघटना ने मंगवाई 50 मशीनें
बूंदी. कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण के बीच ऑक्सीजन की कमी एक बड़ी गंभीर समस्या बन गई। ऑक्सीजन को लेकर हर तरह त्राहि-त्राहि मची हुई है। ऑक्सीजन नहीं मिलने पर कई मरीज जान गंवा चुके है। यों मानों तो ऑक्सीजन का संकट लगातार बना हुआ है। ऐसे में वर्तमान में ऑक्सीजन की बढ़ती जरूरत को देखते हुए बूंदी भारतीय जैन संघटना आगे आया है।
संघटना ने ‘मिशन राहत’ के तहत देशभर में 10 हजार ऑक्सीजन कांस्ट्रेटर मशीनें विदेशों से आयात करने का निर्णय किया। इसके तहत बूंदी संघटना को 50 मशीनों का लक्ष्य दिया गया। इस मशीन के आने के बाद सिलेंडर के जरिए ऑक्सीजन लेने की झंझज खत्म होगी, घरों व आवश्यक मरीजों को एक मामूली राशि के चार्ज पर संघटना की ओर से उपलब्ध करा दी जाएगी। बूंदी संघटना ने 5 मशीनों का ऑर्डर कर दिया जो जल्द बूंदी आएगी। जानकारी के मुताबिक एक कंसंट्रेटर एक मिनट में 5 से 10 लीटर ऑक्सीजन सप्लाई करेगा। इसके अलावा ऑक्सीजन सिलेंडर की तरह बार-बार रिफिल करने की जरूरत नहीं होगी।
संजीवनी साबित होगी इलेक्ट्रॉनिक मशीन
बूंदी जिले में ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए बूंदी संघटना ने भी 50 मशीनें उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया। इस मशीन ने ऑक्सीजन मरीजों को मदद मिलेगी। दानदाताओं व अन्य सामाजिक संगठनों के सहयोग से जल्द ही ऑक्सीजन मशीनों की पहली खेप बूंदी पहुंचेगी।
ऐसे बनी योजना, सिलेंडर के जंजाल से मिलेगी मुक्ति
बूंदी में अभी मरीजों को ऑक्सीजन सिलेण्डर नहीं मिल रहे। इसी का परिणाम हुआ कि चिकित्सालय में मरीजों को भर्ती करना ही कम कर दिया। निर्धारित ऑक्सीजन स्तर बरकरार रखने के लिए मरीजों को सिलेंडर वाले ऑक्सीजन मंगवाने पड़ रहे, जिन्हें खत्म होने के बाद भरवाने का झंझट हो गया। संघटना के प्रदेश सचिव आदित्य भंडारी ने बताया कि संघटना ने लोगों की मदद के लिए यह निर्णय किया।
स्वयंसेवी संगठन हुए जागरूक
संघटना की ओर से कई स्वयं सेवी संगठनों व भामाशाह मशीनें मंगवाने के सहयोग में आगे आए। संघटना के सदस्य इससे जुड़ रहे। इस कार्य के लिए बूंदी संगठन के महेंद्र हरसोरा व डॉ.पंकज जैन को प्रोजेक्ट डायरेक्टर
बनाया गया।
कोटा की भांति भारतीय जैन संघटना ने बूंदी में भी लोगों को राहत देने के लिए ऑक्सीजन की जो कमी आ रही उसे पूरा करने के लिए मुहिम छेड़ दी। जिसमें जीवन बचाने के उद्देश्य से लोगों को इलेक्ट्रॉनिक मशीन उपलब्ध कराई जाएगी।
आदित्य भंडारी, प्रदेश सचिव, भारतीय जैन संघटना, बूंदी

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned