बरसात से ढहा विधवा का आशियाना, मलबेे में बदला मकान

नैनवां में रविवार शाम को हुई तेज बरसात से कस्बे की राजीव कॉलोनी में एक विधवा मीराबाई का मकान ढह गया।

By: pankaj joshi

Published: 20 Jul 2020, 07:47 PM IST

बरसात से ढहा विधवा का आशियाना, मलबेे में बदला मकान
परिवार के 6 लोग भागकर बाहर निकले, बच गई जान
नैनवां. नैनवां में रविवार शाम को हुई तेज बरसात से कस्बे की राजीव कॉलोनी में एक विधवा मीराबाई का मकान ढह गया। दो कमरों का पूरा मकान ही मलबे में बदल गया। जिस समय मकान ढहा उस समय परिवार के सभी लोग मकान के अन्दर ही थे। मकान की एक दीवार ढहने के साथ ही परिवार के लोग भागकर मकान केे बाहर निकल आए, जिससे उनकी जान बच गई। मकान ढहा उस समय मीराबाई, उसकी दोनों पुत्रियां मनीषा व सुनीता, पुत्र विकास व धनराज व दोहिता प्रिंस मकान में ही थे, जो बाल-बाल बच गए। मकान ढहने सेे मकान में रखा पूरा सामान मलबे में दब गया। मकान ढहने की आवाज सुनकर कॉलोनी के लोग भाग कर आए। पूरा मकान मलबे में बदला नजर आया तो मकान रह रहे लोगों को बचाने दौड़ पड़े। परिवार के सभी लोग सुरक्षित मिले तो राहत की सांस ली। शाम 6 बजे जैसे ही बरसात ठहरी तो दो कमरों के मकान की एक दीवार ढहने लगी तो परिवार के लोग बाहर निकल आए। परिवार के लोगों के बाहर निकलने के कुछ क्षणों बाद ही दोनों कमरों की दीवारे व छत ढह कर पूरा मकान मलबे में तब्दील हो गया। कमरों में रखा पूरा सामान भी मलबे में दब गया। पड़ौसियों ने कुछ सामान तो मलबे से निकाला।
बेघर हुआ परिवार
50 वर्षीय मीराबाई का परिवार मूलत: सवाईमाधोपुर जिले के कुम्हारिया गांव के रहने वाले है। बीस वर्ष से पहले मजदूरी करने के लिए नैनवां में आकर रहने लगे। मीराबाई का पति मजदूरी करता था जिसका 6 वर्ष पहलेे निधन हो गया। पति के मौत के बाद मीराबाई मजदूरी करके परिवार को पाल रही है। परिवार में दो पुत्रियां व दो पुत्र है। मकान ढह जाने से पूरा परिवार बेघर हो गया। खाने पीने का सामान, अनाज, बिस्तर सहित पूरा सामान मलबे में दब गया। रहने को घर नही बचा तो पडोसियों से रहने के लिए शरण लेनी पड़ गई।
विधवा के आंसू थम नहीं पा रहेे थे.....
मकान ढहने से अपने चार पुत्र-पुत्रियों के साथ बेघर हुई विधवा मीराबाई के आंसू थमने का नाम ही नही ले रहे थे। रोती जाती और कहती मजदूरी कर रहने को मकान खड़ा किया था। रहने का आसरा ही टूट गया।
आधे घंटे हुई झमाझम बरसात, किसानों को मिली राहत
नैनवां. कई दिनों के इंतजार केे बाद रविवार शाम को नैनवां में मेघ जमकर बरसे। बरसात से जहां किसानों को राहत मिली है, वहीं लगातार पड़ रही उमस से भी राहत मिली है। रविवार को सुबह से ही बादल छा रहे। शाम साढ़े पांच बजे आधे घंटे तक हुई बरसात से राहत मिल गई। कस्बे में जहां सडक़ों पर पानी बह निकला तो गांवों में खेतों में भी पानी बह निकला।
बड़ाखेड़ा . रविवार शाम 5 बजे बाद जमकर बारिश हुई। करीब आधे घंटे तक हुई बारिश से कस्बे की सडक़ें तरबतर हो गई। वहीं ग्रामीणों क्षेत्र बारिश होने से किसानों के चेहरे खिल उठे।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned