48 से 72 घंटों में हो रही जलापूर्ति, बूंदी में पानी के लिए मची त्राही-त्राही

बारिश का मौसम आने के बाद बूंदी शहर में पीने के पानी के लिए त्राही-त्राही मच गई। रात-दिन लोगों को पानी की चिंता सताने लग गई। लोग सडक़ों पर आने को मजबूर हो गए।

By: Narendra Agarwal

Published: 03 Jul 2020, 10:54 AM IST

बूंदी. बारिश का मौसम आने के बाद बूंदी शहर में पीने के पानी के लिए त्राही-त्राही मच गई। रात-दिन लोगों को पानी की चिंता सताने लग गई। लोग सडक़ों पर आने को मजबूर हो गए। शहर के कई हिस्सों में 48 से 72 घंटों के बीच पीने का पानी मिल रहा। इसमें भी कुछ कॉलोनियों में तो कम दबाव या फिर देर रात पानी दे रहे। ऐसे में शहर के बाशिंदे रतजगा करने को मजबूर हो गए। सुबह ही हैंडपंप पर भीड़ जुट रही। इस पीड़ा को लेकर आए दिन लोग नगर परिषद एवं जलदाय विभाग कार्यालय में पहुंचने लग गए। हालांकि अभी तक कोई समाधान होता नहीं दिख रहा। गुरुवार को बूंदी आए लोकसभा अध्यक्ष के समक्ष स्वयं विधायक ने भी इस मसले को उठाया। उन्हें बताया कि एक माह हो गए सुधार नहीं हो रहा। इधर, नगर परिषद आयुक्त ने बताया कि बूंदी परियोजना खण्ड की ओर से कोटा स्थित इंटेक वेल के रख-रखाव के कारण बूंदी शहर में तीन से चार दिन तक 48 घंटे के अंतराल में जलापूर्ति होगी।

शिकायत के बाद भी समस्या जस की तस
शहर में कई स्थानों पर लोगों की दूषित जलापूर्ति होने की समस्या भी दूर नहीं हुई। शहर के नैनवां रोड, गुरुनानक कॉलोनी क्षेत्र की कई गलियों में पानी नहीं आने पर क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि भी आंदोलन की चेतावनी दे चुके।

इन जगहों पर सर्वाधिक परेशानी
शहर के मधुबन कॉलोनी, नैनवां रोड, छत्रपुरा, विकास नगर, देवपुरा में सर्वाधिक परेशानी हो रही। मधुबन कॉलोनी के बाशिंदे संजय लाठी व मनोज लंबाबास ने बताया कि 48 घंटे में भी पानी नहीं आ रहा।

टैंकर से मंगवा रहे पानी
जल संकट बढऩे के बाद कई लोगों ने टैंकर से पानी मंगवाना शुरू कर दिया। ऐसे में टैंकर संचालक लोगों से मनमानी राशि वसूल रहे बताए। यहां नगर परिषद की ओर से टैंकर की भी व्यवस्था नहीं की जा रही। कर्मचारी नेता रविन्द्र चतुर्वेदी ने बताया कि जल संकट से जल्द राहत मिलनी चाहिए। कोई जिम्मेदार इस परेशानी की ओर ध्यान नहीं दे रहा।

चार-पांच दिनों में शहर की जलापूर्ति की समस्या दूर होगी। फिलहाल कोटा स्थित इंटेक वेल के रख -रखाव का काम चल रहा है।
विवेक शर्मा, एइएन, जलदाय विभाग, बूंदी

Show More
Narendra Agarwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned