बूंदी जिला परिषद की बैठक में फिर टारगेट पर रही पुलिस, सदस्यों ने उठा दी यह मांग

केशवरायपाटन विधायक चंद्रकांता मेघवाल ने लाखेरी के पूरे पुलिस थाने को बदलने की उठाई मांग

By: Nagesh Sharma

Published: 04 Oct 2021, 05:02 PM IST

बूंदी. बूंदी जिला परिषद की बैठक में एक बार फिर जिले की कानून व्यवस्था पर सवाल उठाए गए हैं। सदस्यों ने पुलिस थानों में आमआदमी की सुनवाई नहीं होने के खूब आरोप लगाए हैं। उन्होंने पीडि़त को ही पुलिस की ओर से परेशान करने के मामले में संबंधित पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। बैठक सोमवार को जिला कलक्ट्रेट सभागार में हुई।

केशवरायपाटन विधायक चंद्रकांता मेघवाल ने तो लाखेरी के पूरे पुलिस थाने को बदलने की मांग की है। उन्होंने बैठक में कहा कि लाखेरी पुलिस को तो मानों अपराधियों से कोई लेना देना नहीं रहा है। चोरियों ने लोगों की नींद उड़ा रखी है, लेकिन लाखेरी पुलिस को इससे कोई सरोकार नहीं रहा है। उन्होंने पूरे पुलिस थाने को बदला जाने की बैठक में मांग उठाई है। साथ ही करवर थाने में देर रात तक शव के साथ किए प्रदर्शन पर विधायक जमकर बरसी। उन्होंने कहा कि पुलिस मारपीट होने के बाद तक पीडि़त परिवार की तलाश कर रही थी। आरोपियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज नहीं किया गया। परिजनों को मजबूर थाने के बाहर 11 घंटे तक शव रखकर प्रदर्शन करना पड़ा। इसके बाद भी जिला कलक्टर के हस्तक्षेप से प्रकरण दर्ज हुआ है।
विधायक ने कहा कि प्रदेश सरकार को ऐसी कानून व्यवस्था की ओर से देखना चाहिए। आमआदमी का धीरे-धीरे पुलिस से भरोसा उठता जा रहा है। जिला परिषद शक्ति सिंह आसावत ने कहा कि बजरी माफियाओं का खुला खेल हो रहा है। दो दिन में बजरी माफियाओं ने तीन जनों को कुचलकर मार दिया। पुलिस कोई ठोस कार्रवाई नहीं कर रही है। बंधा की खेड़ली गांव में अवैध बजरी खनन के मामले में विधायक ने कहा कि डेढ़ माह पहले ही मौके से अवगत करा दिया था। लेकिन न खनि, न पुलिस विभाग ने पहुंचकर कोई कार्रवाई की। परिणाम यह रहा कि एक 13 साल के बालक को बजरी से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली ने कुचल दिया। उन्होंने पुलिस थानों में लोगों के प्रकरण दर्ज नहीं होने के मामले में जिला कलक्टर से हस्तक्षेप करने की मांग उठाई।
जिला परिषद सदस्यों ने सीएडी के नहरों की दुर्दशा, स्कूलों में भजनों के जर्जर होने का मुद्दा भी बैठक में रखा। सदस्यों ने ग्राम पंचायतों में निविदा प्रक्रिया में बदलाव की मांग रखी। जिला परिषद सदस्य मुरली मीणा ने कहा कि केशवरायपाटन उपखंड में किसानों की फसलें बर्बाद हो गई। इसके लिए सीएडी प्रशासन जिम्मेदार है। विभाग गहरी नींद में रहा इसका परिणाम यह रहा कि सारा ड्रेनेज सिस्टम फैल हो गया। किसानों की हर साल फसलें बर्बाद होने लग गई। इस मसले को जिला कलक्टर रेणु जयपाल ने भी गंभीर माना। उन्होंने जिले की नहरों का सदस्यों के साथ दौरा करने का भरोसा दिया।
बैठक की अध्यक्षता जिला प्रमुख चंद्रावती कंवर ने की। बैठक में केशवरायपाटन प्रधान वीरेन्द्र सिंह हाड़ा, नैनवां प्रधान पदम नागर, हिण्डोली प्रधान कृष्णा माहेश्वरी, तालेड़ा प्रधान राजेश रायपुरिया, बूंदी प्रधान प्रेमबाई मीणा, उप जिला प्रमुख बंसीलाल मीणा, एसपी शिवराज मीणा, सीइओ मुरलीधर प्रतिहार आदि मौजूद रहे।

Nagesh Sharma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned