बेटी को दिया बेटे के समान दर्जा, बेटी के सिर बंधवाई पगड़ी

देई. कस्बे की अम्बेडकर कॉलोनी में शनिवार को रैगर समाज देई द्वारा बेटी के सिर पर पगड़ी बंधवाकर समाज में एक नई नजीर पेश की।

By: Abhishek ojha

Published: 27 Feb 2021, 09:40 PM IST

देई. कस्बे की अम्बेडकर कॉलोनी में शनिवार को रैगर समाज देई द्वारा बेटी के सिर पर पगड़ी बंधवाकर समाज में एक नई नजीर पेश की। अखिल भारतीय रैगर महासभा पूर्व उपाध्यक्ष मोहनलाल आलोरिया ने बताया कि समाज में बेटियों को बेटों के समान दर्जा देते हुए सभी पंचों ने मिलकर पहली बार बेटी के सिर पर पगड़ी बंधवाई। कॉलोनी में रामदेव वर्मा का 15 फरवरी को निधन हो गया था। उसके पांच बेटियां थी। इसलिए सबसे बड़ी बेटी 40 वर्षीया उर्मिला बाई को पगड़ी बंधवाई गई। उर्मिला का दबलाना निवासी रामस्वरूप वर्मा से विवाह हो चुका है। चार अन्य बेटियों में ललता, ममता, अनिता, यमुना थी। इस दौरान देई परगना पूर्व अध्यक्ष टोडरमल वर्मा, नगर अध्यक्ष बंशीलाल मेवलिया, भंवरलाल वर्मा, गजेन्द्र नुवाल, नन्दकिशोर मेवलिया, लेखराज वर्मा, मोडूलाल, राजूलाल, प्रकाशचंद सहित समाज के पंच मौजूद रहे। उर्मिला बाई ने बताया कि मैं अपने परिवार व समाज के लिए हमेशा बेटे के समान हर कार्य को करूंगी।

Abhishek ojha
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned