शिक्षा निदेशालय की रिपोर्ट ने लगाया व्याख्याताओं को करंट

शत प्रतिशत परीक्षा परिणाम को न्यून बताकर जारी कर दिए नोटिस

By: Abhishek ojha

Published: 24 Dec 2020, 08:58 PM IST

नैनवां. इधर विद्यालय रेकॉर्ड बोल रहा है कि गुरुजनों ने माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की परीक्षा 2019-20 में 12वीं कक्षा का शत प्रतिशत परीक्षा परिणाम दिया। उधर माध्यमिक शिक्षा निदेशालय ने काल्पनिक रिपोर्ट में परीक्षा परिणाम न्यून बताकर उन्हीं व्याख्याताओं को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया। माध्यमिक शिक्षा निदेशालय में किस प्रकार आखें बंद कर काम हो रहा इसकी यह अजीब बानगी सामने आई है। बूंदी जिले के नैनवां व देई के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के आधा दर्जन व्याख्याताओं का परीक्षा परिणाम न्यून बताकर कारण बताओ नोटिस जारी किया है। एक व्याख्याता को तो कक्षा 12 को पढ़ाने में लगा ही नहीं रखा था, उसका परीक्षा परिणाम न्यून बताकर उसे भी नोटिस जारी कर दिया। जिला शिक्षाधिकारी कार्यालय द्वारा अभी तक भी व्याख्याताओं के परीक्षा परिणाम का रिपोर्ट कार्ड माध्यमिक शिक्षा बोर्ड को भेजा ही नहीं गया। इन व्याख्याताओं का निदेशालय द्वारा ही अपने स्तर पर परीक्षा परिणाम न्यून रहने का काल्पनिक रिपोर्ट कार्ड के साथ नोटिस जारी कर दिए। नोटिस बुधवार को ही माध्यमिक शिक्षा की अतिरिक्त निदेशक रचना भाटिया के हस्ताक्षरों से जारी हुए है। नोटिस में लिखा है कि 15 दिन में स्पष्टीकरण प्रस्तुत नहीं करने पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।
विद्यालय का रेकार्ड बनाम शिक्षा निदेशालय की रिपोर्ट
1.नैनवां उच्च माध्यमिक विद्यालय के हिन्दी के व्याख्याता शंकरलाल मीना का हिन्दी अनिवार्य विषय का परीक्षा परिणाम शतप्रतिशत रहा था। जबकि माध्यमिक शिक्षा निदेशालय ने 47.52 प्रतिशत ही बताकर नोटिस जारी कर दिया।
2. नैनवां उच्च माध्यमिक विद्यालय के अंग्रेजी के व्याख्याता रामेश्वर मीणा का अंग्रेजी अनिवार्य विषय का परीक्षा परिणाम शतप्रतिशत रहा था। जबकि माध्यमिक शिक्षा निदेशालय ने 47.52 प्रतिशत ही बताकर नोटिस जारी कर दिया।
3. नैनवां उच्च माध्यमिक विद्यालय के रसायन विज्ञान की व्याख्याता विभा गौतम का परीक्षा परिणाम 97.22 प्रतिशत रहा था। जबकि माध्यमिक शिक्षा निदेशालय ने 46.81 प्रतिशत ही बताकर नोटिस जारी कर दिया।
4. देई के उच्च माध्यमिक विद्यालय की रसायन विज्ञान की व्याख्याता शिमला मीना का परीक्षा परिणाम 96.10 प्रतिशत रहा था। जबकि माध्यमिक शिक्षा निदेशालय ने मात्र 19.79 प्रतिशत ही बताकर नोटिस जारी कर दिया।
5. देई के उच्च माध्यमिक विद्यालय के अंग्रेजी के व्याख्याता बाबूलाल मीना का अंग्रेजी अनिवार्य विषय का परीक्षा परिणाम 94.80 रहा था। जबकि माध्यमिक शिक्षा निदेशालय ने 19.79 प्रतिशत ही बताकर नोटिस जारी कर दिया।
6. देई के उच्च माध्यमिक विद्यालय के व्याख्याता पुरुषोत्तम शर्मा ने कक्षा 12 में हिन्दी अनिवार्य विषय पढ़ाया ही नहीं। उनको भी हिन्दी विषय में पढ़ाना बताकर शिक्षा निदेशालय ने नोटिस जारी कर दिया।
प्रधानाचार्यों का कहना
नैनवां उच्च माध्यमिक विद्यालय की प्रधानाचार्य विभा गौतम व देई उच्च माध्यमिक विद्यालय के प्रधानाचार्य महेशकुमार मीणा ने बताया कि शिक्षा निदेशालय द्वारा हमारे विद्यालयों के व्याख्याताओं का परीक्षा परिणाम 95 प्रतिशत से सौ प्रतिशत तक रहा है। निदेशालय द्वारा काल्पनिक परीक्षा परिणाम रिपोर्ट में न्यून बताकर नोटिस जारी किए है। जिसकी उच्चाधिकारियों को जानकारी दे दी है।
आदेश देखा तो आश्चर्य हुआ
अतिरिक्त मुख्य जिला शिक्षाधिकारी चन्द्रप्रकाश राठौर ने बताया कि निदेशालय द्वारा जारी आदेश देखा तो आश्चर्य हुआ। अभी तो व्याख्याताओं का परीक्षा परिणाम का रिपोर्ट कार्ड शिक्षा निदेशालय को भेजा ही नहीं गया। फिर ऐसा रिपोर्ट कार्ड कहा से आ गया। मामला सामने आया तो निदेशालय को स्थिति से अवगत करवाया जा रहा है।

Abhishek ojha
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned