विद्युत निगम को एक साल से नहीं मिला रोड लाइट का पैसा, आखिर क्यो?

Narendra Agarwal

Publish: Feb, 15 2018 12:15:35 PM (IST)

Bundi, Rajasthan, India
विद्युत निगम को एक साल से नहीं मिला रोड लाइट का पैसा, आखिर क्यो?

बूंदी. सरकार की बदनीयती तो देखो, बिजली निगम द्वारा आम उपभोक्ता से रोड लाइट का वसूला गया पैसा सरकार ने अपने खजाने में भर लिया।

बूंदी. सरकार की बदनीयती तो देखो, बिजली निगम द्वारा आम उपभोक्ता से रोड लाइट का वसूला गया पैसा सरकार ने अपने खजाने में भर लिया। बीते एक वर्ष से एक रुपया भी विद्युत निगम को नहीं दिया। अब विद्युत निगम रोड लाइट के लगभग साढ़े आठ करोड़ रुपए जिले के नगर निकायों से मांग रहा है, लेकिन नगर निकाय भी दे तो कहां से, उनकी तो खुद की हालत खस्ता है। निगम के अनुसार नगर निकाय क्षेत्र की रोड लाइटों के विद्युत खर्च की राशि आम उपभोक्ता के बिजली के बिलों के माध्यम से वसूली जाती है। जिसे सरकार प्रतिमाह अपने खजाने में जमा करवा रही है। बीते एक साल से विद्युत निगम के खाते में रोड लाइट के नाम पर एक रुपया भी जमा नहीं करवाया गया। जिलेभर के नगर निकायों पर सार्वजनिक लाइटों का विद्युत खर्च 8 करोड 32 लाख 89 हजार रुपए बकाया चल रहा है। यह राशि जिले के छह नगर निकायों पर बकाया है। मार्च नजदीक होने से विद्युत निगम के अभियंताओं की सांसें फूलने लगी है। इतनी मोटी राशि का कैसे समायोजन कराएं उन्हें समझ नहीं आ रहा है।

अगस्त 2016 से सरकार ले रही पैसा
सूत्रों के अनुसार नगरीय उपकर के नाम पर शहरी क्षेत्रों में 0.15 पैसे प्रति यूनिट के हिसाब से उपभोक्ता के बिलों से रोड लाइट बिजली खर्च की राशि काटी जा रही है। उक्त राशि पहले तो सीधे बिजली निगम के खाते में जमा होती थी। जिससे रोड लाइटों पर होने वाला खर्च समायोजित हो जाता था। अगस्त 2016 से रोड लाइट के नाम पर उपकर के रूप में ली जा रही राशि सरकार के खाते में जाने लगी। इसके बाद सरकार विद्युत निगम को राशि जमा कराती है। इस प्रक्रिया में सरकार ने मार्च 2017 में सिर्फ 1 करोड़ 56 लाख रुपए जमा कराए थे। इसके बाद कोई पैसा जमा नहीं करवाया। ऐसे में जिलेभर में बकाया राशि 8 करोड़ से अधिक हो गई।

इतना है बकाया
बूंदी नगर परिषद क्षेत्र में 3 करोड़ 71 लाख 79 हजार, नगर पालिका नैनवां में 1 करोड़ 42 लाख, नगर पालिका लाखेरी व इंद्रगढ़ पर 54 लाख 86 हजार, नगरपालिका केशवरायपाटन व कापरेन में 2 करोड़ 63 लाख 84 हजार रुपए बकाया हैं। इन नगर निकायों में रोड लाइट खर्च की कुल 8 करोड़ 32 लाख 89 हजार रुपए की राशि बकाया चल रही है।

जयपुर विद्युत वितरण निगम के अधीक्षण अभियंता बूंदी के डी.के. गुप्ता का कहना है कि नगर निकायों पर लगभग साढ़े आठ करोड़ रुपए रोड लाइटों के बकाया हैं। निगम के उच्च स्तर पर मामला चल रहा है। जहां पर वसूली के लिए प्रयास जारी हैं।

रोड लाइट, बकाया, विद्युत खर्च, नगर निकाय, बिल

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned