इस गांव में ऐसा क्या बन रहा जिसकी प्रदेश में फैल रही महक

सब्जियों की पैदावार के लिए प्रसिद्ध बड़ानयागांव क्षेत्र अब गुड़ में भी प्रदेशभर में अपनी छाप छोडऩे लगा है।

By: pankaj joshi

Published: 18 Dec 2018, 12:36 PM IST

Bundi, Bundi, Rajasthan, India

खेतों में आने लगी गुड़ की महक
चलने लगी चरखियां, प्रदेशभर में बनाई पहचान
बड़ानयागांव. सब्जियों की पैदावार के लिए प्रसिद्ध बड़ानयागांव क्षेत्र अब गुड़ में भी प्रदेशभर में अपनी छाप छोडऩे लगा है। किसानों ने दिसंबर माह में खेतों में लगी चरखियों में गुड़ बनाना शुरू कर दिया है। जिससे अब गांवों में गुड़ की महक आने लगी है। मांगलीकला के किसान भवानीशंकर सैनी, बिरधीलाल सैनी व जगदीश सैनी ने बताया कि वर्ष 2000 से पूर्व क्षेत्र में किसान बड़ी तादाद में गन्ना की फ सल करते थे। बाद में शुगर मीलों के अचानक बंद होने से गन्ना की फसल किसानों के लिए घाटे का सौदा साबित होने लगी। जिससे किसानों का गन्ना की खेती से मोहभंग हो गया था। पिछले एक दशक से किसानों का रुझान गन्ना की फ सल के प्रति बढ़ा तो गांवों में गन्ना की फ सल नजर आने लगी है। इससे किसान चरखियां लगाकर गुड़ तैयार करने लगे।
स्वादिष्ट व दानेदार होने से डिमांड
क्षेत्र का गुड़ स्वादिष्ट एवं दानेदार होने से जिले सहित कोटा, बूंदी, बारां, झालावाड़ व टोंक के लोग यहां गुड़ लेने आने लगे हैं। गुड़ की प्रदेशभर में पहचान बनने लगी है। किसानों ने बताया कि चरखियों का गुड यहां खेतों पर ही बिक जाता है। इस कारण मंडियों में भी नहीं पहुंच पा रहा है। इन दिनों बड़ानयागांव, मांगलीकला, चेता, अशोक नगर, बीचडी, ढगारिया, अलोद, कालाभाटा, मांगली खुर्द, बड़ोदिया, दाता, खातीखेड़ा, त्रिशूलया, ढाकणी, हरिपुरा, कल्याणपुरा, तुरकडी, गुढांबाध बड़े पैमाने पर चरखियों से गुड़ तैयार किया जा
रहा है।
बड़ानयागांव क्षेत्र में कुछ वर्षों से धीरे-धीरे गन्ना की खेती का रकबा बढ़ता जा रहा है। किसान खेतों में लगी चरखियों पर गुड़ तैयार करने लगे हैं। इससे अच्छा फायदामिलने लगा है।
इंद्रराज मीणा, सहायक कृषि अधिकारी, बड़ानयागांव

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned