जन्माष्टमी 2018: आस्था की हांडी तक परम्परा का पिरामिड...

जन्माष्टमी 2018: आस्था की हांडी तक परम्परा का पिरामिड...

Suraksha Rajora | Publish: Sep, 03 2018 11:50:09 PM (IST) Bundi, Rajasthan, India

भक्तिमय मौहाल के साथ मंदिरों में जन्माष्टमी पर्व की धूम रही।

बूंदी. जिले में जन्माष्टमी हर्षोउल्लास के साथ मनाई गई। मध्यरात के जैसे ही १२ बजे, मंदिर शंखनाद, घंटे घडिय़ाल से गूंजने लगे। चारो ओर आया माखन चोर, मच गया शोर...प्रकटे गोपाल नटखट बाला, नंद के आनंद भयो जय कन्हैयालाल की जयकारों से गूंज उठा। भगवान जन्म के साथ मंदिरों में महाआरती हुई।

 

साथ ही ग्वालों की टोलियां मटकी फोड़ कर माखन, दही खाकर खुशी मनाई। सोमवार सुबह से ही भक्तिमय मौहाल के साथ मंदिरों में जन्माष्टमी पर्व की धूम रही। घर आंगन से लेकर मंदिरों के प्रागण सज गए। गली मौहल्लों और चौराहो पर गोविंदा आला रे आला.. सरीखे भक्तिमय गीत उत्साह कर संचार कर रहें थे।

 


बालचंद पाड़ा स्थित गोपाल लाल महाराज मंदिर में सुबह ९ बजे से ही गोपाल जी को पालना के दर्शन के लिए लोग उमड़े। पहली बार देवस्थान विभाग से गोपाल जी के श्रृंगार के लिए मिले ३० हजार के बजट से प्रतिमा का मनमोहक श्रृंगार किया गया।

आस्था की हांडी तक परम्परा का पिरामिड-
राधा के मोहन, माखन चोर, नटखट, गोपियों के कृष्ण का जन्म दिन शहर में पूरे उल्लास , उत्साह और उमंग के साथ मना। टोलियों के रूप में मटकियों को फोडऩे पहुंचे कान्हाओं ने पिरामिड बनाकर कई प्रयास किए लेकिन माखन उसी टोली के हाथ आया जिसने पूरे मन और ध्यान से मटकी फोडऩे का जतन किया। डीजे पर भक्तिमय कृष्ण भजनों के बीच कान्हाओं की टोली जब बाजार में निकली तो हर तरफ माखन चोर कृष्ण भक्ति के रंग में लोग नजर आए। रस्सियों पर लटकी मटकियों पर निशाना बनाए ग्वाल नजर आए ऐसा लगा मानो जैसे ब्रज की धरा पर उतर आए हो।

मंगलआरती कर बांटा प्रसाद-
शहर के रंगनाथ जी, चारभूजा जी, .....सहित जिले के भगवान कृष्ण मंदिरों में मंगलाआरती की गई। बड़ी संख्या में भगवान की एक छलक देखने के लिए बड़ी संख्या में भक्तों का हुजूम उमड़ा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned