scriptKartik Poornima Festival in Bundi | Bundi : भगवान केशव मंदिर में कार्तिक पूर्णिमा पर पहली बार हुआ ऐसा, पढ़ें | Patrika News

Bundi : भगवान केशव मंदिर में कार्तिक पूर्णिमा पर पहली बार हुआ ऐसा, पढ़ें

चम्बल के घाटों पर स्नान कर किया दीपदान

बूंदी

Published: November 19, 2021 06:01:40 pm

बूंदी. केशवरायपाटन में चम्बल किनारे पहुंचकर श्रद्धालुओं ने कार्तिक पूर्णिमा महास्नान में भाग लिया। यहां तडक़े मंगला आरती के साथ ही पवित्र स्नान शुरू हो गया जो शाम को आरती तक जारी रहा। इधर, सुबह से ही मावठ का दौर शुरू हो गया। इससे हुआ यह कि श्रद्धालुओं की आवक में ब्रेक लग गया। इस दौरान मंदिर में भी देर तक कम ही श्रद्धालु रहे, जिन्हें देर तक भगवान केशव के दर्शन किए। यह पहला ही अवसर होगा, जब श्रद्धालुओं को बिना भीड़ के देर तक मंदिर में रुकने का अवसर मिला। कोविड से पहले तक इस दिन संख्या हजारों में रहने से मंदिर में पैर रखने की भी ठोर नहीं रहती थी। हालांकि श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला रात तक जारी रहा।
Bundi : भगवान केशव मंदिर में कार्तिक पूर्णिमा पर पहली बार हुआ ऐसा, पढ़ें
Bundi : भगवान केशव मंदिर में कार्तिक पूर्णिमा पर पहली बार हुआ ऐसा, पढ़ें
धनुषाकार बहती चम्बल
विंध्याचल से निकलकर यमुना तक उत्तर दिशा की ओर बहने वाली चम्बल नदी केशव धाम पहुंचकर धनुषाकार रूप में प्रकट होने से यहां का धार्मिक महत्व अलग ही है। चम्बल नदी को यहां चर्मण्यवती के नाम से भी जाना जाता है। यहां पर इसने तीर्थ का रूप ले लिया है। जिस प्रकार पूर्वाभिमुख गंगा काशी में आकर धनुषाकार बहती हुई काशी की विश्वनाथ धाम संज्ञा को सार्थक करती है। उसी प्रकार चम्बल धनुषाकार बहती हुई केशव धाम को तीर्थरूप देती हैं। पुराणों में भी इसका उल्लेख मिलता है। जब महर्षि जमदग्नि ने अपने पुत्र परशुराम को बताया कि हत्या का जो पाप हुआ है, उससे छुटकारा आश्रम पट्टन में मां चर्मण्यवती में स्नान कर भगवान शिव के दर्शन से करने से मिलेगा। भगवान केशव के चरणों में बहने वाली चर्मण्यवती में 12 माह स्नान करने का अलग-अलग महत्व है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार यहां पर पौष माह में स्नान करने पर पाप धुल जाते हैं। माघ माह में स्नान करने पर प्रयाग में गंगा स्नान के बराबर फल मिलता है। फाल्गुन मास में स्नान-दान करने पर पलम सुख वैभव की प्राप्ति होती है। चैत्र मास में स्नान करने पर शरीर के रोगों का नाश होता है। बैशाख में स्नान का राजसूय यज्ञ के समान फल मिलता है। ज्येष्ठ मास में स्नान करने पर विश्वजीत यज्ञ के समान फल मिलता है। आषाढ़ में स्नान करके पर अनिष्टों से छुटकारा मिलता है। श्रावण में स्नान करने पर सुन्दर पत्नी मिलने, भाद्रपद में स्नान करने पर पर शोक समाप्त होता है। आश्विन में स्नान करने पर पितरों को मुक्ति मिलने का उल्लेख ग्रंथों में मिलता है।
कार्तिक मास में वृक्ष पूजन का महत्व
प्रकृति को शुद्ध रखने वाले वृक्षों की महिमा अलग है। जीवन में वृक्षों का महत्व समझने की आवश्यकता है। वृक्ष जहां धरा का शृंगार है, वहीं इनका धार्मिक महत्व भी आदि अनादि काल से चला आ रहा है। कार्तिक मास में तो वृक्ष पूजन का अलग ही महत्व है। वेदों, पुराणों में वर्णित विभिन्न प्रसंगों में वृक्ष पूजा के महत्व को विस्तार से बताया गया है। कार्तिक मास को भगवान विष्णु का सबसे प्रिय मास माना जाता है। इस लिए पुराणों में भी इस मास में विष्णु स्तुति करने का उल्लेख मिलता है। विष्णु स्तुति में स्नान, ध्यान, दीप, दान पूजन आदि व्यवस्थाओं का अलग ही महत्व है। भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए तुलसी, आंवला, पीपल, शमी की पूजा करने का बड़ा महत्व पुराणों में भी वर्णित है। कार्तिक में भगवान केशव तुलसी पत्र से प्रसन्न होते हैं। तुलसी विवाह की परंपरा भी वर्षों से चली आ रही है। अक्षय नवमी पर आंवला व पीपल पूजन का विशेष महत्व है। ऋषि-मुनियों ने पीपल के वृक्ष को साक्षात विष्णु व वट वृक्ष को शंकर का प्रतीक माना है। इसी प्रकार पलाश के वृक्ष को साक्षात ब्रह्मा कहा गया है। इन वृक्षों की पूजा से पापों का नाश होता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

Corona cases in india: पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2.35 लाख केस, 871 की मौत, संक्रमण दर हुई 13.39%UP Assembly Elections 2022: भाजपा ने किसानों से झूठा वादा किया, उन्हें धोखा दिया, प्रेस कांफ्रेंस में बोले अखिलेशदिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू खत्म, आज से नई गाइडलाइंस के साथ मेट्रो सेवाएं शुरूउत्तर प्रदेश विधान परिषद चुनाव 2022 की डेट का ऐलान, जानें कितने सीटों के लिए और कब आएगा रिजल्टमुस्लिम वोटों को लुभाने के लिए बसपा ने किया बड़ा खेल, बाकी हैरानखतरनाक साइड इफैक्ट : इलाज के बाद ठीक हुए मरीजों पर आइआइटी का शोध, खराब हो रहे ये अंगओमिक्रॉन के नए वैरिएंट की एंट्री, मरीजों के सैंपल भेजे दिल्ली, 1418 पुलिसवाले भी संक्रमितछत्तीसगढ़ में कोरोना का कहर, 48 घंटे में 30 मरीजों की मौत, सबसे ज्यादा 8 संक्रमितों की मौत दुर्ग में
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.