बूंदी से छिना ग्रीन जोन, संक्रमित को लेकर गया था बूंदी का ऑटो...पढ़े यह खबर

बूंदी जिले में पहला कोरोना संमित मिलने के बाद क्षेत्र में प्रशासन ने ऐहतियाती कदम उठाने शुरू कर दिए। यहां आस-पास के रास्तों पर बेरिकेड्स लगवा दिए, ताकि कोई आ- जा नहीं सके। क्वॉरंटीन सेंटर भवानीपुरा गांव में आस-पास की दुकानों को भी प्रशासन ने ऐहतियात के तौर पर बंद कर दिया।

By: Narendra Agarwal

Published: 28 May 2020, 10:43 AM IST

बूंदी . बूंदी जिले में पहला कोरोना संमित मिलने के बाद क्षेत्र में प्रशासन ने ऐहतियाती कदम उठाने शुरू कर दिए। यहां आस-पास के रास्तों पर बेरिकेड्स लगवा दिए, ताकि कोई आ- जा नहीं सके। क्वॉरंटीन सेंटर भवानीपुरा गांव में आस-पास की दुकानों को भी प्रशासन ने ऐहतियात के तौर पर बंद कर दिया। अब शंकरपुरा गांव में स्क्रीनिंग शुरू होगी।
आपको बता दें कि 22 वर्षीय महिला सोमवार को अपने गांव दबलाना के निकट शंकरपुरा आई थी। उसे यहां भवानीपुरा में बना रखे क्वॉरंटीन सेंटर में रखा था। जिसका मंगलवार को जांच के लिए सेम्पल लेकर कोटा मेडिकल कॉलेज भेजा गया था। महिला के साथ उसका नौ माह एवं 3 साल का बेटा भी था। महिला की बुधवार शाम को पहली जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद देर रात पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों ने चिकित्सा दल की मौजूदगी में उसे इलाज के लिए कोटा मेडिकल कॉलेज भेज दिया। चिकित्सा विभाग ने देर रात तक महिला की ट्रेवल हिस्ट्री खंगाल ली जिसमें पता चला कि वह मुम्बई से रेल से कोटा पहुंची थी। कोटा से ऑटो में बैठकर बूंदी पहुंची। बूंदी में फिर दूसरा ऑटो किया और अपने गांव शंकरपुरा पहुंची। पुलिस ने दोनों ही ऑटो की तलाश शुरू कर दी। गांव में महिला पति से मिली थी। पति इसके बाद एक किराने की दुकान पर गया था। प्रशासन ने महिला के पति एवं किराने की दुकान के संचालक को क्वॉरंटीन कर दिया।
यहां रात को ही सूचना पर दबलाना थाना प्रभारी रामगिलास गुर्जर, हिण्डोली उपखंड अधिकारी मुकेश चौधरी, पुलिस उपाधीक्षक श्यामसुंदर विश्नोई, ब्लॉक सीएमओ डॉक्टर जगबीर सिंह, दबलाना चिकित्सालय प्रभारी डॉ. श्रीनाथ सोनी पहुंच गए थे।

Narendra Agarwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned