फसलें पड़ी आड़ी, देखा तो छलक गए आंसू

क्षेत्र में दो दिन तक हुई बरसात व अंधड़ से किसानों कि कई बीघा फसल खेतों में आड़ी पड़ गई।

By: pankaj joshi

Updated: 17 Apr 2019, 10:31 PM IST

नोताड़ा. क्षेत्र में दो दिन तक हुई बरसात व अंधड़ से किसानों कि कई बीघा फसल खेतों में आड़ी पड़ गई। मंगलवार शाम को भी अंधड़ व बरसात शुरू हुई जो रातभर चलती रही। बुधवार सुबह खेतों में जाकर किसानों ने हालात देखे तो उनके आंसू फूट पड़े। रघुनाथपुरा के किसान रामकुंवार मीणा की 12 बीघा, लटूर लाल मीणा की 20 बीघा, बाबूलाल मीणा की 32 बीघा, मालिकपुर के गिरिराज मीणा की 15 बीघा, नोताड़ा के रामरतन बैरागी की 9 बीघा सहित कई किसानों की फसलें आड़ी पड़ गई। किसानों ने बताया कि अब गेहूं को निकलवाने व बेचने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ेगा।

 

बूंदी. बूंदी जिले में एकबार फिर कुदरत का कहर किसानों पर टूट पड़ा। अंधड़ और बारिश से सैकड़ों बीघा फसल नष्ट होने के कगार पर पहुंच गई। कटाई थम गई। जो उपज तैयार कर घरों पर लेकर आए अब समर्थन मूल्य पर इनकी भी खरीद बंद हो गई। बीते तीन दिन से जिले में लगातार बेमौसम बारिश होने से गेहूं की फसलों की कटाई रुक गई। यहां किसानों ने बताया कि इसका गुणवत्ता पर असर आएगा। उन्हें अब दाम कम मिलेंगे। इधर, नमाना थाना क्षेत्र के केवडिय़ा गांव में आकासीय बिजली गिरने से एक किसान की मौत हो गई। इसी प्रकार जावरा गांव में बिजली का तार टूटकर गिरने से करंट की चपेट में आने से एक किसान की मौत हो गई। इससे पहले आकाशीय बिजली गिरने से पीली की खान गांव में ४० वर्षीय रामघणी गवारिया की मौत हो गई। वह खेत पर गेहूं की फसल समेट रही थी।बडानयागांव, तुरकड़ी व बड़ी मांगली में ओले गिरने से गेहूं की बालिया टूटकर गिर गई। आकाशीय बिजली गिरने से किसान प्रभु लाल सैनी के दो बैलों की मौत हो गई। इधर, केशवरायपाटन क्षेत्र के ईश्वरनगर गांव में बिजली गिरने से गोवर्धन लाल मीणा की भैंस की मौत हो गई। भैंस बाड़े में बंधी थी।

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned