अवैध पार्सल ले जाने की कलई खुलती देख कोटा रोडवेज डिपो का ड्राइवर आया बैकफुट पर...क्या है पूरा माजरा पढ़िए यह खबर

अवैध पार्सल ले जाने की कलई खुलती देख कोटा रोडवेज डिपो का ड्राइवर आया बैकफुट पर...क्या है पूरा माजरा पढ़िए यह खबर

Suraksha Rajora | Publish: Sep, 07 2018 07:27:20 PM (IST) Bundi, Rajasthan, India

हंगामे के बीच बूंदी से जयपुर जा रही बस में बैठे यात्री भी परेशान होते रहे।

बूंदी. बस स्टेंड परिसर में शुक्रवार को उस वक्त हंगामा हो गया जब कोटा डीपो के ड्राइवर ने पार्सल जयपुर ले जाने से मनाही कर दी। फिर क्या था लगेज के लिए रोडवेज की लाइसेंसधारी कम्पनी के कर्मचारी ने हल्ला बोल दिया और बसो के ड्राइवर और कंडक्टर द्वारा अवैध पार्सल ले जाने का आरोप लगाया।

 

हंगामे की सुचना के बाद मौके पर पहुंची पत्रिका टीम ने जैसे ही कैमरा चलाना शुरू किया अवैध पार्सल ले जाने की कलई खुलती देख कोटा रोडवेज डीपो का ड्राइवर बैकफुट पर आया और बाद में पार्सल ले जाने की हामी भर दी। हंगामे के बीच बूंदी से जयपुर जा रही बस में बैठे यात्री भी परेशान होते रहे।

 


श्री साई श्रद्धा कार्गो प्राइवेट लिमिटेड कम्पनी के मार्केटिंग एक्जिक्यूटिव रईस ने रोडवेज बसो के ड्राइवर और कंडक्टर द्वारा अवैध पार्सल ले जाने का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया। इस दौरान दोनो के बीच बहसबाजी होती रही लेकिन डिपो के एक भी अधिकारी नीचे नही आया।

 

हंगामा बढ़ता देख मुख्य प्रबंधक कार्यलय के कुछ कर्मचारी छत के ऊपर से ही ड्राइवर को पार्सल ले जाने के निर्देश देते रहे। लेकिन ड्राइवर भी अड़ा रहा और पार्सल ले जाने से साफ इंकार कर दिया। बाद में हंगामे को कवरेज करता देख ड्राइवर पर्सल ले जाने के लिए तैयार हो गया।

 


कम्पनी के मार्केटिंग एक्जिक्यूटिव रईस ने पत्रिका को बताया कि कम्पनी रोडवेज की लाइसेस धारी कॉट्रेक्ट है जो अनुमति प्राप्त है। डीपो से जो भी लगेज जाता है वो बिल्टी के माध्यम से जाता है। लेकिन रोडवेज के ड्राइवर और कंडक्टर मिलकर धाधली कर रहें है।

 

उन्होने आरोप लगाया कि रोडवेज के ड्राइवर पार्सल को अवैध रूप से बिना बिल्टी के ले जा रहें है। इसकी एवज में कस्टमर से 2 सौ से लेकर 5सौ रूपए लगेज के वसूलते है। है। जबकि कम्पनी 40 लाख रूपए महिना राजस्थान रोडवेज को देती है। उसके बावजुद रोडवेज में कंडक्टर और डा्रइवर पार्सल ले जाने से मना कर देते है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned